ओजोन परत है हमारी जीवन सुरक्षा कवच- अशोक

ओजोन परत है हमारी जीवन सुरक्षा कवच- अशोक


ए •के•  फारूखी ( रिपोर्टर)


ज्ञानपुर, भदोही ।

विश्व ओजोन दिवस पर आज बुधवार को कंपोजिट विद्यालय बडवापुर, ज्ञानपुर के परिसर में डीएफओ भदोही आलोक सक्सेना एवं राष्ट्रपति पुरस्कार से पुरस्कृत शिक्षक एवं वृक्ष पुरुष अशोक कुमार गुप्ता द्वारा 11 वृक्ष नीम, पीपल, आंवला,गुलर,बालमखीरा एवं बरगद आदि का पौधरोपण किया गया ।
           

इस अवसर पर अशोक कुमार गुप्ता ने कहा कि लगातार मानवीय गतिविधियों से सिर्फ प्रकृति को ही नहीं, बल्कि ओजोन परत को भी नुकसान पहुंच रहा है। पर्यावरण का अर्थ है पृथ्वी का आवरण है और इसका सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है ओजोन परत। एक रंगहीन गैस स्तर के रूप में पृथ्वी से करीब 15 से 35 किलोमीटर ऊपर ओजोन परत मुख्य से पृथ्वी के समताप मंडल में पाई जाती है ,

जो सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करती है क्योंकि सूरज की अल्ट्रावायलेट किरणें और इसका रेडिएशन पृथ्वी पर प्रतिकूल असर डालते हैं। इन्हें रोकने का काम ओजोन परत करते हैं। प्रभागीय वन अधिकारी भदोही वन प्रभाग आलोक सक्सेना ने कहा कि 1913 में सबसे पहले फ्रांसीसी भौतिक शास्त्र चार्ल्स हेनरी ने ओजोन परत की खोज की।

ओजोन परत अपने 97 से 99 फ़ीसदी तक सूरज की मध्यम फ्रीक्वेंसी की अल्ट्रावायलेट किरणों को पृथ्वी तक आने नहीं देती और पृथ्वी को बड़े नुकसान से बचाएं रहती है। इस अवसर पर ग्राम प्रधान शिव नाथ यादव , प्रधानाध्यापक विजय प्रताप सिंह ,रामलाल सिंह यादव, अमरीन बानो, इबरार अहमद, अनिल कुमार सिंह, विवेक तिवारी, रामलाल तिवारी सहित गणमान्य व्यक्ति उपस्थित होकर के ओजोन दिवस कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग प्रदान किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here