विजय दिवस के अवसर पर प्रीतम सिंह ने की ‘धन्यवाद जवान’ अभियान की शुरुआत और जवानों के परिवार के लिये जारी किया व्हाट्सएप नंबर

विजय दिवस के अवसर पर प्रीतम सिंह ने की 'धन्यवाद जवान' अभियान की शुरुआत और जवानों के परिवार के लिये जारी किया व्हाट्सएप नंबर

विजय दिवस के अवसर पर प्रीतम सिंह ने की ‘धन्यवाद जवान’ अभियान की शुरुआत और जवानों के परिवार के लिये जारी किया व्हाट्सएप नंबर

स्वतंत्र प्रभात न्यूज़

देहरादून।जनपद देहरादून में राजपुर स्थित होटल मधुबन में उत्तराखंड कांग्रेस पार्टी कमीटी के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने प्रेस वार्ता कर लगाया ‘धन्यवाद जवान’ थोड़ी मिठाई, थोड़ी दवाई और बहुत सारा सम्मान का नारा!जवानों के परिवार के लिए जारी किया व्हॉट्सएप नंबर – 7669643999

उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने विजय दिवस के अवसर पर ‘धन्यवाद जवान’ अभियान की शुरुआत की! जिसके तहत वह फौजी जवानों के घर जाकर प्रदेश के लोगों की तरफ से उनके परिवारों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करेंगे। इस अभियान के तहत प्रीतम सिंह उत्तराखंड राज्य के सभी ज़िलों का दौरा करेंगे और सेना एवं अर्धसैनिक बलों के जवानों के परिवारों से मिलेंगे!

प्रीतम सिंह ने कहा- “मैं खुद देश की सेवा में तैनात जवान साथियों के घर जाऊंगा और उनके परिवार का हाल पूछकर उनकी समस्या के निवारण के लिए उचित कदम उठाऊंगा। साथ ही हम उनकी ज़रूरतों की पूर्ति हेतु एक व्हॉट्सएप नंबर – 7669643999 भी जारी कर दिया हैं। जिसके माध्यम से जवानों के परिजन व्हॉट्सएप करके अपनी समस्या व सुझावों को हमारे साथ साझा कर सकते हैं।”अभियान की शुरुआत देहरादून से की गयी है। जहाँ जवानों के परिजनों से मिलकर उन्हें ‘थोड़ी मिठाई, थोड़ी दवाई और सम्मान स्वरुप शॉल भेंटकर प्रीतम सिंह ने यह सुनिश्चित किया कि सरहद पर डटे जवानों के परिवार के साथ वह हर सुख-दुःख में खड़े हुए हैं।

प्रीतम सिंह ने कहा कि जब जब देश पर आंच आयी तब तब देव भूमि के युवा अपने प्राणों की परवाह किये बिना दुश्मनों से लोहा लेने के लिए आगे खड़े दिखाई दिए। तभी तो आज़ादी से अब तक देवभूमि को 1 परमवीर चक्र, 6 अशोक चक्र, 13 महावीर चक्र, 32 कीर्ति चक्र सहित 1343 वीरता पदक से नवाज़ा जा चुका है!

उन्होंने कहा कि बतौर जनप्रतिनिधि देश के लिए सेवा दे रहे जवानों के परिवार को मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराने और उनकी समस्याओं का निराकरण करना हमेशा से उनकी प्राथमिकता रही है। लेकिन मौजूदा सरकार में जवानों और उनके परिजनों का सिर्फ शोषण हुआ है। इसलिए वो खुद प्रदेश के नागरिक होने के नाते सरहद व देश की सुरक्षा में विभिन्न दलों में तैनात जवानों के परिवारों की समस्याओं को जानने के लिए उनके बीच जाएंगे और उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए हर उचित प्रयास करेंगे!