दिग्‍गजों को नहीं मिली सहानुभूति,भाजपा नेता  की मां चुनाव हारे

दिग्‍गजों-को-नहीं-मिली-सहानुभूति-भाजपा-नेता-की-मां-चुनाव-हारे
स्वतंत्र प्रभात
गोरखपुर में दिग्‍गज नेताओं को मतदाताओं ने नकार दिया। – 
 गोरखपुर भाजपा नेता बृजेश सिंह की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके चलते उनकी मां चुनाव मैदान में उतरीं लेकिन उनकी मां को ग्रामीणों की सहानुभूति नहीं मिली जिसके चलते वह 44 मतों से चुनाव हार गईं। गोरखपुर के चरगांवा ब्लाक के नरायनपुर गांव में नामांकन से एक दिन पूर्व भाजपा नेता बृजेश सिंह की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके चलते उनकी मां चुनाव मैदान में उतरीं, लेकिन उनकी मां को ग्रामीणों की सहानुभूति नहीं मिली, जिसके चलते वह 44 मतों से चुनाव हार गईं।
दो अप्रैल को बदमाशों ने गोली मारकर कर बृजेश सिंह की कर दी थी हत्या
दो अप्रैल की रात में 11 बजे बदमाशों ने नरायनपुर गांव के पूर्व प्रधान व भाजपा नेता की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जनसंपर्क कर वह घर लौट रहे थे। बृजेश सिंह गांव से प्रधान पद के दावेदार थे।घटना के बाद से उनकी मां सावित्री देवी चुनाव में उतरी थीं।गांव में चर्चा थी कि वह चुनाव जीत जाएंगी लेकिन परिणाम आने के बाद अनुमान गलत साबित हुआ। सावित्री देवी को 596 मत मिले जबकि प्रतिद्वंद्वी गोपाल को 640 मत मिले।
2010 में चुनी गई थीं प्रधान
नरायनपुर ग्राम सभा में 2005 में अरविन्द प्रजापति प्रधान पद के लिए निर्वाचित हुए। नौ महीने बाद हादसे में मौत होने के बाद उपचुनाव हुआ जिसमें बृजेश सिंह प्रधान चुने गए। 2010 में महिला के लिए सीट आरक्षित होने पर उन्होंने मां सावित्री देवी को प्रत्याशी बनाया जो 50 वोट से चुनाव जीती।2015 में प्रधान सीट पिछड़ी जाति महिला हो गयी तो उन्होंने आशा देवी पत्नी गुड्डू चौहान का समर्थन किया लेकिन वह चुनाव हार गईं।
कोविड प्रोटोकाल का पालन न करने पर पुलिस ने भाजी लाठी
भटहट कस्बे में मतगणना के बाद जीते प्रत्याशी के समर्थक रात में जुटकर नारेबाजी करने लगे।जानकारी होने पर पहुंची पुलिस ने लाठी भांज कर भीड़ को तितर-बितर किया।चौकी प्रभारी वीरेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि कुछ लोगों द्वारा नारेबाजी की सूचना मिली थी। पुलिस के पहुंचने पर लोग भाग गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here