जाने कमिशनर सिस्टम लागू होने से क्या फायदा होगा ?#Lucknow#Noida

commissioner

मुंबई की तर्ज पर अब लखनऊ और नोयडा में भी कमिशनर सिस्टम लागू कर दिया गया है। आपको बता दूँ कमिशनर प्रणाली को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में लाने की बहुत पहले बहुजन समाज वादी पार्टी की मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने की थी।

शाशन स्तर पर हुई मीटिंग में ये चर्चा की गयी थी कि एडीजी रैंक के अधिकारी को ही कमिश्नर नियुक्त किया जायेगा।उसके नीचे आईजी रैंक के दो अधिकारी को ज्वाइंट कमिशनर नियुक्त किया जायेगा।

मूल रूप से भागलपुर बिहार के रहने वाले सुजीत कुमार पाण्डेय 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी है 26/11 मुंबई बम ब्लास्ट में इन्होने नंदडी ग्राम समेत अन्य जिलों की कमान संभाली थी । सुजीत पाण्डेय एक कुशल प्रशासनिक अधिकारी माने जाते है।

कमिशनर सिस्टम लागू होने से होने वाला फायदा-

कमिशनरी लागू होने से पुलिस को डीएम के कई अधिकार मिल जाते है। लखनऊ कमिशनर को सिर्फ ला एण्ड आर्डर से जुड़े अधिकार ही प्राप्त होंगे ।

जैसे कमिशनर को ये पावर होगी कि वो प्रदेश में धारा 144,गुंडा एक्ट,जिला बदर,कर्फ्यू लगाना,पाबंदी की कार्यवाही,धारा 151,असलहा लाईंसेंस देने जैसे अधिकार शामिल होंगे जो कमिशनर के आदेश पर लागू हो जायेंगे।

पहले ये सारे अधिकार डीएम को प्राप्त होते थे । अब ये अधिकार कमिशनर को प्राप्त होंगे।

मुख्य फायदा

इससे मुख्य फायदा ये होगा कि ला एण्ड आर्डर से जुड़े सारे मामले पर कमिशनर अपने लेवल से ही आदेश पारित कर सकता है।जिससे पहले किसी नियम या आदेश को लागू करने में होने वाली देरी खत्म होगी।

चुंकि मजिस्ट्रेट की पावर कमिशनर के अंदर आ जायेगी इस वजह से लखनऊ पुलिस की ताकत और बढ़ जायेगी।

धारा 144,गुंडा एक्ट,जिला बदर,कर्फ्यू लगाना,पाबंदी की कार्यवाही,धारा 151, आदि मामले में डीएम के आदेश का इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

दंगा और अपराध को रोकने में कमिशनर प्रणाली काफी सहायक होगी। अपराधियों पर अंकुश लगाने में पुलिस के पास पहले से ज्यादा ताकत और अधिकार रहेंगे।

कानून व्यवस्था को लेकर सारी पावर कमिशनर में निहित होगी। जिससे अपराधियों पर कार्यवाही करने में लगने वाले समय से पुलिस को छुटकारा मिलेगा।

पुलिस को त्वरित कार्यवाही के अधिकार प्राप्त होंगे।

#vipin shukla

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here