मिलावटः जुगसना को माना हाईरिस्क ऐरिया, रास्ते में रोक कर भरे दूध के सैंपल

मिलावट-जुगसना -को- माना हाईरिस्क ऐरिया, रास्ते -में -रोक -कर -भरे -दूध- के- सैंपल

-खाद्य सुरक्षा टीम ने अंधेरे में ही कई डेयरी पर मारा छापा
-पहली बार घर घर बांटे जा रह दूध की भी होगी जांच
-दूधिया में मचा हडकांप, मोटरसाइकिल के नम्बर भी किये नोट

गोदाम से मसालों के नमूने लेती खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की टीम

मथुरा। खाद्य पदार्थों के जरिये स्वास्थ्य से हो रही खिलवाड को रोकने के लिए  लगातार कदम उठाये जा रहा है। कई बडी कार्रवाही हुई हैं। शुक्रवार को खाद्य सुरक्षा टीम ने रात के अंधेरे से दिन के उजाले तक ताबडतोड कार्रवाही की। डेयरियों पर छापेमार कार्रवाही के बाद रास्ते में मिले दूधिया की टंकियों से भी दूध के नमूने लेकर जांच को भेजे गये हैं। विभाग का दावा है कि पहली बार जनपद में दूधिया द्वारा होने वाले दूध के डोर टू डोर वितरण पर भी नजर रखी जा रही है। इस कवायद का परिणाम आना बाकी है।

इससे पहले भी इस तरह की कार्रवाही हुई हैं लेकिन सुखद परिणाम नहीं मिले हैं।  खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के डीओ डॉ. गौरीशंकर ने बताया कि हमंे सूचना मिली थी जुगसना क्षेत्र  डेयरी संचालकांे द्वारा दूध में मिलावट की जाती है। सुबह लगभग तीन बजे निकले थे, जुगसना में महेश अग्रवाल डेयरी का संचालन करते हैं। सुबह चार बजे हम लोग डेयरी पर पहुंच गये थे। यहां से पनीर और क्रीम के सैंपल लिये। दूध डेयरी पर नहीं मिला। सैंपल जांच के लिए भेज दिये गये हैं।

मिलावटः जुगसना को माना हाईरिस्क ऐरिया, रास्ते में रोक कर भरे दूध के सैंपल

जुगसना के पास ही प्रेमचंद की डेयरी थी, वहां से भी नमूने लिये गये। उन्होंने बताया कि जुगसना हाॅटस्पाॅट क्षेत्र बना हुआ हैं, इसे हाईरिस्क ऐरिया में चिन्हित कर लिया गया है। यहां से लगातार शिकायतें मिल रही हैं। इस दौरान डेयरी परिसर का भी निरीक्षण किया। कोई संदिग्ध पदार्थ ऐसा नहीं मिला जिसे दूध में मिलाया जा सके। इस दौरान देखा गया कि कोई ऐसी वस्तु न हो जिसे वह दूध  मिलाते हों। रास्ते में दूधियों को रोक कर उनसे भी सैंपल लिये और जांच को सैंपल भेजे हैं। काफी मात्रा  दूधिया दूध लेकर जा रहे थे,

जांच के उपरांत और पूछताछ कर निष्कर्ष निकाला है कि जो दूधिया सीधे डोर टू डोर सप्लाई करते हैं उसकी जांच नहीं कर पाते है। लोग सीध उपयोग करते हैं उसकी जांच होना भी अनिवार्य है। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम ने जुगसना में ही मुन्ना डेयरी पर छापा मारा। यहां टैंकर में लगभग 5000 लीटर दूध पाया गया। टीम ने कारोबारी प्रेमचंद अग्रवाल की डेयरी से दूध का सैंपल लिया। नगला बिझारी में नकली दूध बनाने की सूचना पर टीम ने महेश की डेयरी का का निरीक्षण किया। मौके पर महेश के पास लगभग 1000 लीटर दूध पाया गया। टीम ने दूध के सैंपल लिए। वहीं राया में सादाबाद रोड से दो दूध विक्रेताओं से दो नमूने लिए गए। 

दुकान गोदामों से लिये मसानों के नमूने

खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम ने मथुरा में लाला गंज कोतवाली रोड स्थित के टी.सी किराना स्टोर का निरीक्षण किया। मौके पर मोहम्मद ताहिर नामक व्यक्ति पाया गया। भरतपुर गेट पर मसाला गोदाम पहुंची टीम ने उसके सभी मसालों निरीक्षण किया तथा मौके पर धनिया पाउडर का संदेह होने पर उसका एक नमूना लिया।

लगभग 100 किग्रा धनिया पाउडर सील कर उसकी अभिरक्षा में छोड़ दिया गया और एक नमूना पिसी लाल मिर्च कर लिया गया। 120 किग्रा. लाल मिर्च को भी उसकी अभिरक्षा में छोड़ा गया। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के डीओ डॉ. गौरीशंकर ने कहा कि पूरे जनपद में पूरे जनपद मुखबिर की जैसे-जैसे सूचना मिल रही है, वैसे ही निरीक्षण कर कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने जनपदवासियों से अपील है की है कि मिलावटी खाद्य पदार्थ की किसी की कोई भी शिकायत वह खाद्य सुरक्षा एवं प्रशासन मथुरा में दर्ज करा सकता है। शिकायत कराने वाले का नाम गोपनीय रखा जाएगा।