स्वतंत्र प्रभात आज की टॉप 2 ख़बरें स्कालरशिप में संतोषजनक प्रगति न होने पर सीडीओ ने की बैठक

स्कालरशिप में संतोषजनक प्रगति न होने पर सीडीओ ने की बैठक

स्वतंत्र प्रभात आसिम अली उन्नाव। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने बताया कि अपर मुख्य सचिव उप्र शासन अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ अनुभाग-3 एवं निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण के द्वारा प्री मैट्रिक, पोस्ट-मैट्रिक एवं मेरिट कम मींस छात्रवृत्ति योजनाओं में राष्ट्रीय स्कॉलरशिप पोर्टल पर दर्ज शिक्षण संस्थाओं का पंजीकरण व केवाईसी अपडेट के सत्यापन में प्रगति लाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। एनएसपी पोर्टल पर केवाईसी के संबंध में संतोषजनक प्रगति न होने के कारण मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 राजेश कुमार प्रजापति द्वारा बैठक आहूत कर संबंधित अधिकारियों को इस कार्य में प्रगति लाए जाने हेतु निर्देशित किया गया। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने जनपद के समस्त शिक्षण संस्थाओं के प्राचार्य/प्रधानाचार्य एवं समस्त मदरसा प्रबंधकों को निर्देशित किया है कि अपने-अपने दर्ज शिक्षण संस्थाओं का पंजीकरण व केवाईसी अपडेट करना सुनिश्चित करें। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने छात्र-छात्राओं के ऑनलाइन आवेदन करने की पात्रता एवं शर्तों के बारे में बताते हुए कहा कि शैक्षिक सत्र 2020-21 हेतु अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र-छात्राओं के नवीन/नवीनीकरण आवेदन हेतु पिछली कक्षा में न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक होना अनिवार्य है। छात्रवृत्ति हेतु आवेदन करने के लिए अभिभावकों की वार्षिक आय प्री.मैट्रिक के लिए 01 लाख, पोस्ट मैट्रिक के लिए 02 लाख, मेरिट.कम.मींस के लिए 2.50 लाख होनी चाहिए।

भाजपा-सपा के बीच सिमटा उपचुनाव

स्वतंत्र प्रभात आसिम अली उन्नाव। आज की स्थिति में जिस प्रकार बांगरमऊ विधानसभा की सड़कों, गाँवो, नगरों में लाल टोपी धारी सपाई और केसरिया गमछा बांधे भाजपाई छितराया भारी मात्रा में दिख रहा है उससे ये निश्चित है कि पूरा चुनाव भाजपा सपा के बीच मुकाबले में आ गया है। कांग्रेस प्रत्याशी को अन्य जाति का समर्थन न मिलने और स्वजातीय वोट विधानसभा में ज्यादा न होने के कारण कांग्रेस प्रत्याशी का चुनाव दम तोड़ दिया है। कांग्रेस प्रत्याशी का चुनाव न उठने तथा अधिकतर मुस्लिम समुदाय समाजवादी मानसिकता का होने के कारण विधानसभा का मुस्लिम सपा के पक्ष में पूरी तरह लामबंद होता दिख रहा है। 27 अक्टूबर को भाजपा के फायर ब्रांड नेता मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी की सभा के बाद चुनाव की तस्वीर पूरी तरह भाजपा सपा के मुकाबले में एक पर एक होते दिखाई दी। ऐसा विधानसभा के प्रबुद्धजनों का मानना है। सभा के बाद मत में ध्रुवीकरण होने से ब्राह्मण मतदाता पूरी तरह भाजपा में मुड़ जाने की स्थिति में हो जाएगा।