संक्रामक बीमारियों की रोकथाम हेतु अधिकारी द्वारा जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ की गई बैठक

स्वतंत्र प्रभात,

हापुड़: जनपद हापुड़ के नोडल अधिकारी एस0वी रंगाराव, जिलाधिकारी अदिति सिंह एवं जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ सिंचाई विभाग के गेस्ट हाउस में संक्रामक बीमारियों की रोकथाम हेतु समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने जनपद के समस्त अधिशासी अधिकारियों से कहा कि वर्षा ऋतु से पूर्व शहरी क्षेत्र में नालों की साफ सफाई सुनिश्चित करा लें तथा जिन शौचालयों के सेप्टिक टैंक ना बने हो उनको बनवाया जाए। शहरी क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों, आशा इत्यादि नागरिकों के स्वास्थ्य की देखभाल व साफ सफाई पर भी नजर रखें। समस्त नागरिकों का थर्मल स्कैनिंग द्वारा जांच की जाए।

इसके लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी रेखा शर्मा को निर्देशित किया गया। उन्होंने कहा कि नगर पंचायतों में पेयजल की व्यवस्था पूर्ण रूप से की जाए और शासन के निर्देशानुसार कार्य करते रहें तथा इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि नालों का पानी पेयजल के पाइप से मिलान की स्थिति ना उत्पन्न हो। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी से कहा कि बरसात के मौसम में आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को आर0 एस0 का घोल समय-समय पर देते रहे तथा यह भी ध्यान दिया जाए कि बच्चे दूषित जल का सेवन ना करें, पानी को उबालकर उसको ठंडा करके ही उपयोग में लाया जाए।

बच्चों को इस बात का भी ध्यान दिलाते रहे की वह हाथों से अपने चेहरे को बार-बार ने छुए और मास्क व सैनिटाइजर इत्यादि का निरंतर उपयोग करते रहे। अपने हाथों को समय समय के अंतराल में साबुन या हैंड वॉश से धोते करते रहे। जनपद के समस्त गांव में स्वास्थ्य कर्मचारियों की टीम द्वारा कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए ग्रामीणों से दूर से ही वार्ता की जाए तथा यह भी ध्यान रखा जाए कि ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क का उपयोग हो रहा है या नहीं ? जो लोग मास्क का प्रयोग नहीं कर रहे हैं उन्हें दंडित किया जाए। जिलाधिकारी अदिति सिंह ने भी बैठक में सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि उनके पास हाइपोक्लोराइट का समुचित व्यवस्था रहे।

जनपद में कोरोना पॉजिटिव पाए जा रहे मोहल्लों में निरंतर सैनिटाइजेशन जारी रहे। नोडल अधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिए कि नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में कहीं भी जलभराव ना होने पाये और यदि कहीं पर भी जलभराव है तो एंटी लारवा का छिड़काव किया जाए  ताकि मच्छर जनित बीमारियां ना पैदा हो। ग्रामीण/नगरी क्षेत्रों में कूड़े का समुचित निस्तारण किया जाता रहे, जिसके लिए ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम प्रधान विशेष रूप से सक्रिय रहे। हम सभी का दायित्व बनता है कि संक्रामक बीमारियों को रोकने में हम अपना पूर्ण योगदान दें और इसके लिए विशेष सतर्कता बरती जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह, अपर जिलाधिकारी जयनाथ यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी व समस्त खंड विकास अधिकारी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।