पेट्रोलियम दरों में वृद्धि द्वारा जनता पर बोझ डाल रही है‌‌ मोदी सरकार-के०के० तिवारी

पेट्रोलियम- दरों -में- वृद्धि- द्वारा जनता पर बोझ डाल रही है‌‌ मोदी- सरकार-के०के० तिवारी

बस्ती।

बस्ती जिले में कम्युनिस्ट पार्टी पार्टीडीजल,पेट्रोल व गैस की मूल्य वृद्धि के खिलाफ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन के क्रम में माकपा नेताओ ने जिला सचिव कामरेड राम गढ़ी चैधरी के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर प्रधान मंत्री को संबोधित दो सूत्रीय मांग पत्र प्रशासनिक अधिकारी को दिया।
जानकारी के अनुसार माकपा नेता के के तिवारी ने केंद्र सरकार द्वारा रसोई गैस, डीजल और पेट्रोल के दामों में की गई बेतहाशा वृद्धि का कड़ा विरोध करते हुए इसे वापस लेने की मांग किया।

कहा कि केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल डीजल के दामों में भारी वृद्धि ऐसे समय में की गई है जब तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में गिरावट हुई है। 2014 में पेट्रोल की अंतरराष्ट्रीय मूल कीमत रुपए 47.12 थी जो 2021 में घटकर रुपए 29.3 4 हो गई है। डीजल पेट्रोल के दामों में वर्तमान आसमानी उछाल का मुख्य कारण केंद्र सरकार द्वारा की गई एक्साइज ड्यूटी में बेलगाम वृद्धि है यह वृद्धि 38ः है जो पेट्रोल के मूल दाम से भी अधिक है। 2014 में मोदी सरकार के आने के बाद से अब तक डीजल पेट्रोल पर लगभग 217ः टैक्स की वृद्धि की गई है‌।

महामारी एवं आर्थिक मंदी की दोहरी मार झेल रही भारत की जनता पर यह एक घोर कपट पूर्ण हमला है यह मोदी सरकार द्वारा अपने पूंजीपति मित्रों को दी गई रियायतों का नतीजा है। माकपा जिला सचिव कामरेड राम गढ़ी चैधरी ने कहा कि 2020 2021 के बजट में पूजी पतियों एवं अमीरों को टैक्स में पिछले वर्ष के मुकाबले 2.11 लाख करोड़ की रियायत दी गई है जिसकी भरपाई डीजल, पेट्रोल के दामों में वृद्धि द्वारा जनता पर बोझ डाल कर की जा रही है‌‌। डीजल पेट्रोल के दामों में वृद्धि से सभी आवश्यक वस्तुओं के दाम भी बढ़ जाएंगे और आवागमन महंगा होगा पेट्रोल के दामों में वृद्धि से सभी आवश्यक वस्तुओं के दाम भी बढ़ जाएंगे और आवागमन महंगा होगा ।

जनता की दुश्वारियां और बढ़ेगी‌। माकपा नेता नवनीत यादव, सुरेंद्र मोहन शर्मा ने कहा कि मांग पत्र में पेट्रोलियम पदार्थों की मूल्य वृद्धि के साथ ही कानून व्यवस्था की मांग शामिल है। प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ चुकी है महिलाओ और दलितों के साथ घटनाएं हो रही है ।प्रदेश सरकार को कानून व्यवस्था और दुरुस्त करनी चाहिए। प्रदर्शन में कामरेड राम जी ,कामरेड शिवचरण निषाद, कामरेड राम प्रकाश सहित अनिता,सजरुन्निशा,रुकसाना बेगम,फातिमा बेगम, संगीता,रेशमा शामिल रहे।