इफको के एमडी यूएस अवस्थी सहकारिता के क्षेत्र में सबसे बेहतर कार्य करने वाले भारतीय चुने गए

‌ इफको के एमडी यूएस अवस्थी सहकारिता के क्षेत्र में सबसे बेहतर कार्य करने वाले भारतीय  चुने गए

‌दुनिया में बजाया सहकारिता का डंका

‌स्वतंत्र प्रभात प्रयागराज से दया शंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट

‌प्रयागराज। 

इफको के सीईओ एवं एमडी यूएसए अवस्थी देश में सहकारिता के क्षेत्र में सबसे बेहतर कार्य करने वाले भारतीय के तौर चुने गये हैं. वे किसानों को मजबूत करने के प्रयासों के कारण सूची में स्थान बनाने में सफल रहे. अपनी छवि, निर्णय लेने की क्षमता तथा बुलंद इरादे के आधार पर कापरेटिव जगत से वे इकलौते भारतीय हैं. टॉप 50 प्रभावशाली लोगों की लिस्‍ट में राजनेता, उद्योगपति, अभिनेता, पत्रकार समेत ब्‍यूरोक्रेट्स भी शामिल हैं.

‌इफको को विश्व स्तर पर सफल कापरेटिव संस्था के तौर पर स्थापित करने में यूएस अवस्थी के प्रभावशाली नेतृत्‍व क्षमता को अहम माना जाता है. फेम इंडिया की प्रभावशाली भारतीय की लिस्‍ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले स्‍थान पर हैं, । इस लिस्‍ट में देश के कुल आठ मुख्‍यमंत्री , उद्योग जगत के आठ महारथी सहित कई केंद्रीय मंत्री भी शामिल हैं.

‌इस सर्वे में शामिल होने वाले अन्‍य प्रमुख व्यक्तियों में टाटा फाउंडेशन के रतन टाटा , रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी , रक्षामंत्री राजनाथ सिंह , केरल के मुख्यमंत्री पी कुरियन, एनएसए अजीत डोभाल , प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार आदि शामिल हैं. दिलचस्‍प यह है कि सहकारिता के क्षेत्र से इफको के एमडी एंव सीईओ यूएस अवस्थी ही इस सूचि में जगह बना सकें, जबकि उद्योग जगत और समाजसेवा के क्षेत्र से कई चर्चित नाम शामिल रहें हैं.

‌फेम इंडिया मैगजीन और एशिया पोस्‍ट के ’50 प्रभावशाली व्यक्ति 2020′ के सर्वे में व्‍यक्तित्‍व, प्रभाव, दूरदर्शिता, छवि, विकासपरक कार्यशैली तथा जन कल्‍याणकारी प्रयास आदि नौ मानदंडों पर करीब बारह हजार से ज्यादा प्रबुद्ध लोगों की राय शामिल की गई है. सर्वे में राजनीति, ब्यूरोक्रेसी, अध्यात्म, चिकित्सा और विज्ञान, पत्रकारिता, समाजसेवा, सहकारिता, उद्योग एवं व्यापार, कला, अभिनय आदि से जुड़े प्रभावशाली व्यक्तियों को शामिल किया गया।

‌ उद्योगपति रतन टाटा को सामाजिक सरोकार तथा उद्यमिता के लिये चौथा स्‍थान मिला है.  पांचवें नंबर पर भारत के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी का नाम है.।

‌यहां यह बताना जरूरी है कि डॉक्टर यू एस अवस्थी इफको की कमान 25 वर्ष पहले प्रबंध निदेशक के रूप में संभाली थी ।उस समय  इफको की स्थिति बहुत डावाडोल चल रही थी सहकारिता का क्षेत्र किसानों और उद्योग के लिए निराशा वादी हो गया था   अनेक औद्योगिक संस्थान बंद एक समय ऐसा भी आया था जबकि को बंद होने की स्थिति में आ गए थे। उसी समय डॉक्टर अवस्थी ने इ फको की कमान चुनौती के रूप में सम्हाली।

उन्होंने अपने कौसल और साहसिक निर्णय के बल पर अपने संस्थानों को न केवल मजबूत किया बल्कि इफको को अन्य अनेक क्षेत्रों में भी ले जाने का फैसला किया।अनेक विदेशी कंपनियों के साथ समझौता करके इफको की भागीदारी सुनिश्चित करने में सफलता हासिल की।

किसानों के बीच में इफको की विश्वनीयता बनाई। उनके कल्याण और आर्थिक उन्नति के लिए अनेक योजनाएं चलाई कृषि को मजबूत करने के लिए किसानों को जागरूक किया और प्रसिछन देकर वैज्ञानिक खेती के लिए प्रोत्साहित किया। स्वयं पूरे देश में किसानों के बीच में जाकर संपर्क किए मिट्टी की उर्वरा सक्ती बनाए रखने के लिए अभियान चलाया और मुफ्त में मिट्टी की जांच कराने की सुविधा प्रदान की। उनके अथक प्रयास से आज इफको सहकारी संस्था किसानों की सबसे विश्वसनीय और हितैशी संस्था बन चुकी हैं।

इफको में काम करने वाले उनके कर्मचारी मजदूर तथा किसान डॉक्टर अवस्थी को अधिकारी के रूप में कम  संरछक के रूप में अधिक मानते है। उनके विरूद्ध चाहे किसान हो चाहे उनका कर्मचारी एक सब्द भी विरोध में नहीं सुनना चाहता है।