जल ही जीवन है तो उस जीवन को बचाने में लिए हम क्या कुछ कर रहें ।

जल ही जीवन है तो उस जीवन को बचाने में लिए हम क्या कुछ कर रहें ।

सरकार अपना कर्तव्य निभाएंगी,साथ ही हमें भी अपना कर्तव्य निभाना चाहिए ।

प्रदीप दुबे (रिपोर्टर )

औराई भदोही ।

गांधी जी ने कहा था कि प्रकृति हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति कर सकती है, लेकिन लालच की नहीं। जल तो मनुष्य की ही नहीं, बल्कि संपूर्ण जीवन की सबसे बड़ी आवश्यकता है। जल के बिना जीवन की कल्पना असंभव है। कहा भी जाता है कि जल ही जीवन है। इस सूक्ति को अगर हम जीवन में धारण करेंगे तो जल का संरक्षण अपने आप हो जाएगा।

यह प्रश्न तो उठेगा ही कि अगर जल ही जीवन है तो उस जीवन को बचाने में लिए हम क्या कर रहे है। जल ही जीवन है, यह केवल कहने के लिए न रह जाए। वर्तमान में जल संसाधन पर आए संकट को देखे तो ऐसा लगता है कि यह केवल कहने की बात है। यह मानवजनित संकट है और इसका समाधान मनुष्य ही कर सकता है।

अनेक सभ्यताओं का पतन जल संकट के कारण हुआ है और अगर हम इसका समाधान हम नहीं करते है तो हमारा अस्तित्व भी संकट में आ सकता है। तो हमें जल के महत्त्व को देखते हुए उसके संरक्षण के लिए ठोस कदम उठाना पड़ेगा। कानून बनाने के साथ-साथ उसका अच्छे से क्रियान्वयन किया जाना चाहिए‌।

साथ ही जनभागीदारी भी आवश्यक है। इसके अभाव में सब कुछ अधूरा रह जाता है। सरकारें अपना कर्तव्य तो निभाएंगी ही, हमें भी अपने कर्तव्य निभाने पड़ेंगे।यह केवल सरकार का काम नहीं है, बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम जल संरक्षण के लिए अपने कर्तव्य का पालन अच्छे से करें।

वैसे भी जीवन के अधिकार के अनुसार स्वच्छ जल प्राप्त करना, यानी अच्छे पर्यावरण का अधिकार हमारा मौलिक अधिकार है। लेकिन हम अपने अधिकार को तो जानते हैं, पर कर्तव्य की अनदेखी कर देते है। जबकि प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा करना हमारा मौलिक कर्तव्य है।