दस्तक अभियान में आशाएं घर-घर दे रहीं ‘दस्तक’

REPORT BY-ANOOP SINGH

दस्तक अभियान में आशाएं घर-घर दे रहीं ‘दस्तक’ 

संचारी रोगों के साथ कोरोना के प्रति किया जा रहा जागरूक 

7 बुखार रोगियों की हुई कोरोना जांच, सभी निगेटिव मिले

महोबा। स्वास्थ्य विभाग संचारी रोग नियंत्रण/दस्तक अभियान चला रहा है। यह 31 जुलाई तक चलेगा। अभियान में आशा कार्यकर्ता डोर-टू-डोर जाकर लोगों को कोरोना महामारी से बचने के साथ ही अन्य बीमारियों डेंगू, मलेरिया, चिकुनगुनिया, बुखार आदि से भी बचाव के टिप्स दे रही हैं। कोरोना के प्रति जागरुक करने के साथ ही उनके दिलों में कोरोना को लेकर व्याप्त डर को भी दूर कर रही हैं। जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुमन के निर्देशन पर चल रहे दस्तक अभियान के दौरान आशा कार्यकर्ता लोगों को हाथ धुलने का सही तरीका बता रही हैं। साथ ही इस बात की भी जानकारी दे रही हैं कि वह किस तरह से छोटे छोटे उपायों को अमल में लाकर कोरोना जैसी बीमारी को दूर भगा सकते हैं। वह इन तरीकों का सार्वजनिक प्रदर्शन करने के साथ ही जागरुकता सम्बन्धी पम्पलेट भी लोगों को दे रही हैं। जिला मलेरिया अधिकारी आरपी निरंजन ने बताया कि मलेरिया, डेंगू एवं डायरिया जैसी महामारी का मुख्य कारण गंदगी व दूषित जलभराव है।

उन्होंने कहा ग्रामीण अपने घरों के आसपास न तो कूड़े और न ही गंदे पानी को जमा होने दें। जितने भी संक्रामक रोग हैं उनकी असली जड़ मच्छर है और मच्छर गंदगी के स्थान पर ही पैदा होते हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि वह कूलर में भी अधिक दिनों तक पानी को जमा नहीं होने दें।सहायक मलेरिया अधिकारी राधेश्याम यादव ने बताया कि दस्तक अभियान में 1.58 लाख घरों का लक्ष्य था। अभी तक 1.31 लाख घरों का सर्वे किया जा चुका है।

इस दौरान कराई जाने वाली मातृ बैठकों में 10838 महिलाओं और ग्राम स्वच्छता समिति की बैठकों में 4664 लोगों ने भाग लिया। पानी शुद्ध करने के लिए 11129 क्लोरीनेशन डेमो किए गए। दस्तक अभियान में 7 बुखार के रोगियों की मलेरिया के साथ कोरोना का जांच करवाई गई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

 कोरोना से बचाव के लिए जरूरी टिप्स

कोरोना वायरस से बचाव के लिए हाथों को बार-बार साबुन और साफ पानी से अच्छी तरह धोएं। खांसते और छींकते समय नाक और मुंह को टिश्यू पेपर या रूमाल से ढंकें। इस्तेमाल किए टिश्यू पेपर को कूड़ेदान में ही फेंकें। अगर खांसी या बुखार के लक्षण हो या सांस लेने में तकलीफ हो तो तुरंत नजदीक के सरकारी अस्पताल पर जाएं। खांसी बुखार या सांस लेने में दिक्कत होने पर और लक्षण समाप्त होने तक घर पर ही आराम करें। लोगों से कम से कम एक मीटर की दूरी बनाए रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here