केमिस्ट को भी कोरोना योद्धा के नज़रिए से देखें – मनोज कौशल

– अपना जीवन दांव पर लगाकर लोगों को उपलब्ध करा रहें है दवाइयां…

– केमिस्ट दे रहे है कोरोना योद्धा के रूप में सेवा….


बद्दी !    कोरोना के खिलाफ जंग में सभी विभागों के अधिकारी व कर्मचारी योद्धा की तरह अपनी-अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं। वहीं इस विकट परिस्थिति में मेडिकल शॉप वाले भी कोरोना योद्धा कम नहीं है। दुकानदार दवाइयों की आपूर्ति में लगे हैं कुछ दवाइयों को छोड़कर अधिकतर दवाइयों की आपूर्ति सामान्य करने के लिए काफी हद तक सफल भी हैं। इसमें मास्क व सैनिटाइजर भी शामिल है। जब इस बारे में हमारी बात बद्दी केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज कौशल से हुई तो उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में मेडिकल शॉप समेत कई जरूरी सेवाओं में शामिल लोगों को छूट दी गई है।

आजकल इस कोरोना महामारी के दौरान जब सुबह को एक दवा व्यापारी (केमिस्ट) अपनी शॉप के लिए निकलता है तो पूरा परिवार चिंतित रहता है कि कहीं ये अपने काम के दौरान इस वायरस से संक्रमित न हो जाएं और यह जानलेवा वायरस घर ना आ जाए। इस सब खतरे को भांपते हुए भी एक दवा व्यापारी बहुत कम लाभ होने के बावजूद अपने परिवार के खर्चे चलाने और ऐसे महासंकट के समय लोगों के स्वास्थ्य और जीवनरक्षा हेतु अपना योगदान करने के उद्देश्य से अपना जीवन दांव पर लगाकर लोगों को दवाएं उपलब्ध करा रहे हैं। 


मनोज कौशल ने कहा कि हालांकि, मेडिकल शॉप में काम करने वाले लोग भी इस वायरस के संक्रमण से डरे हुए हैं, यही वजह है कि वो अपने-अपने तरीके से इससे निपटने की कोशिश कर रहे हैं। मेडिकल शॉप में काम करने वाले कर्मचारी सोशल डिस्टेंस यानी सामाजिक दूरी को अपना रहे हैं। यहां ग्राहकों से उचित दूरी बनाने के लिए दुकानदार ने खास तौर से निश्चित दूरी को कवर कर दिया है। इसकी वजह यही है कि कोई भी ग्राहक आएं तो वो दुकान में काम करने वालों के करीब नहीं पहुंच जाएं। यही नहीं मेडिकल शॉप में काम कर रहे सभी कर्मचारियों ने सुरक्षा के लिहाज से मुंह में मास्क भी लगा रखा है। साथ ही दुकान पर आने वाले लोगों को भी कोरोना वायरस से बचाव को लेकर जरूरी निर्देश दे रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि हमारा मानना है कि जिस तरह डॉक्टर, अस्पतालकर्मी, सफाईकर्मी और सुरक्षाकर्मी (सभी सरकारी वेतनभोगी) कोरोना योद्धा हैं। इसी प्रकार दवा व्यापारी (स्वपोषित) भी अपनी सेवाएं दे रहे हैं, तो इन्हें भी इस जोखिम भरे कार्य के लिए कोरोना योद्धाओं के नजरिये से ही देखा जाना चाहिए और इनके योगदान को सराहा जाना चाहिए। अगर सच में जनता और सरकार की नजर में ऐसा होता है तो दवा व्यापारी बंधु भी इस दौरान अपनी सहभागिता पर गर्व महसूस कर सकेंगे। इस मौके पर बद्दी एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज कौशल, अनिल वर्मा, जसविंदर भारद्वाज, धर्मपाल धीमान, भजन चौधरी, चंदन कौशल, यशपाल शर्मा, पंकज दीपू, पंकज कौशल व अन्य दवा विक्रेता उपस्थित थे।