तथ्यविहीन राजनीति के सौदागर हैं बैरिया विधायक : विनय सिंह

बैरिया की गुमराह करने वाली राजनीति से प्रदेश स्तर पर गिराया विधायक ने अपना मान सम्मान

बलिया / कुछ दिन पहले बैरिया विधायक ने बलिया के सांसद और उनके रिश्तेदारों पर गंभीर आरोप लगाते हुए प्रदेश की राजनीति में हलचल मचा दिया था. जिसको लेकर भाजपा के शीर्ष  नेता कुछ भी बोलने से कतराने लगे थे. सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार चुकी भाजपा के ही विधायक ने भाजपा के सांसद और उनके रिश्तेदारों पर गंभीर आरोप लगाए थे और यही नहीं जनता भी बलिया भाजपा में उठ रहे आरोप प्रत्यारोप के सुर को लेकर काफी कुछ कहने लगी थी. एक वक्त ऐसा लगने लगा कि भाजपा बलिया के कार्यकर्ताओं में भी आपस में टकराव हो जाएगा.

विधायक के आरोप से सांसद की छवि और भाजपा दोनों को नुकसान दिख रहा था. चुकी बैरिया विधायक ने जिस आक्रामकता से मुद्दे को उठाया था उससे बैरिया विधानसभा की जनता को एक समय के लिए पूर्णता गुमराह कर दिया गया था. समाज में यह प्रचार कर दिया गया कि विधायक धर्म की राजनीति करते हैं अधर्म कि नहीं बस फिर क्या था विधायक ने जनता के बीच अपनी छवि कट्टर धार्मिक नेता के रुप में चमका ली . 

लेकिन 3 सितंबर को जब उच्च स्तरीय कमेटी की रिपोर्ट डीएम बलिया ने प्रेषित किया तो बैरिया विधानसभा क्षेत्र में एक बार फिर हलचल मच गया. इस बार विधायक के आरोपों को गलत साबित करते हुए जिस रिपोर्ट की बात कही गई उससे विधायक  के आरोप औंधे मुंह गिरे पड़े मिले. सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के रिश्तेदार विनय सिंह और उनकी कंपनी पर लगे तथ्य विहीन आरोप से एक बार फिर रिपोर्ट प्रेषित होने के बाद विनय सिंह को बल मिला. तो वही इमानदार छवि के सांसद का प्रदेश में मान-सम्मान दुगुनी रफ्तार से बढ़ गया. 

दरअसल मामला था इब्राहिमाबाद जमीन जिसे बैरिया विधायक ने मेले की जमीन बताकर क्षेत्र में धार्मिक कार्ड खेल दिया था. बैरिया विधानसभा क्षेत्र की जनता भी धार्मिक और पौराणिक ऐतिहासिक मेले विवाद में विधायक की बात सुननेे लगी थी. बैरिया विधायक ने खुलेआम अपने सांसद के विरोध  में धरना प्रदर्शन करने लगे कई बार प्रेस कॉन्फ्रेंस करके आरोप प्रत्यारोप का दौर  भी चला. 

दूसरी तरफ विधायक ने 10 जून को जिला अधिकारी बलिया को शिकायती पत्र देकर मामले की गंभीरता बताते हुए कार्यवाही की मांग की थी जिसमें आरोप लगाया था कि वर्तमान बलिया सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के रिश्तेदार विनय सिंह निदेशक शिवम एरा प्राइवेट लिमिटेड ने भूमाफियाओ से फर्जी रजिस्ट्री कराई है जो अवैध तरीके से मेले की जमीन हड़पने कि साजिश है। वर्तमान  बैरिया विधायक के साथ दो अन्य स्थानीय निवासियों ने आरोप लगाया और मांग की थी कि  इब्राहिमाबाद जमीन विवाद का राजस्व विभाग से जांच कराई जाय. शिकायत के बाद जिलाधिकारी बलिया ने एडीएम के अध्यक्षता में उच्चस्तरीय जांच कमेटी का गठन किया था. कमेटी ने अपनी जांच आख्या जिलाधिकारी को प्रेषित किया. 

जिलाधिकारी ने 03 सितम्बर 2020 को एक आदेश जारी किया जिसमें यह स्पष्ट किया कि आराजी नंबर 702 व 795 का बैनामा संवैधानिक नियमो के पालन कर किया गया है. बेचने वाले कास्तकारों का नाम राजस्व अभिलेखों में दर्ज है. जिलाधिकारी ने खारिज दाखिल एवं क्रय विक्रय पर लगाई गई रोक को भी हटाया.मतलब जिला अधिकारी बलिया ने बैनामा को वैद्य करार दिया.उच्चस्तरीय कमेटी में भी बैरिया विधायक और अन्य दो ने जो आरोप लगाया था उसे भी फर्जी बताते हुए विनय सिंह को क्लीन चिट दे दिया है. वही विगत दिनों विनय सिंह ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपने ऊपर लगे आरोपों को तथ्य विहीन बताते हुए छवि धूमिल करने की बात कही थी. इस मामले में 22 मई 2020 को बैनामा को फर्जी बताते हुए विधायक ने कई मीडिया संस्थानों एवं बैरिया विधान सभा क्षेत्र में एक अफवाह फैलाई थी कि विनय सिंह बैनामा फर्जी करा कर मेले के जमीन को हथियाने का षड्यंत्र कर रहे है। वैसे जिलाधिकारी ने रिपोर्ट के आधार पर आराजी संख्या 702 एवं 795 में दर्ज खारिज दाखिल में लगाये गए रोक को समाप्त कर दिया है इस संबंध में जिलाधिकारी ने कहा है की किसी को आपत्ति हो तो न्यायालय में जाने के लिए वह स्वतंत्र है। 

विनय सिंह ने कहा – – – – – 


इस सम्बंध में आज विनय सिंह ने पत्रकारों से बताया कि सत्य परेशान हो सकता है पर पराजित नही। विनय सिंह ने बलिया की जनता से अपील की है कि हमारे सांसद एक सम्मानित वरिष्ट राष्ट्रीय स्तर के नेता व जनप्रतिनिधि हैं किसी के आरोप प्रत्यारोप पर आप ध्यान ना दें. चुकी सांसद गुमराह करने वाली राजनीति कभी नहीं किए हैं. लगभग 40 दशक से देश प्रदेश की जनता की आवाज व किसानों के अग्रणी नेता रहे हैं. जो किसानों की आवाज निरंतर दिल्ली तो पहुंचाने का कार्य करते आ रहे हैं. बलिया की जनता की कोई भी समस्या हो उसे खुद सांसद तक पहुंचाए. सांसद आपके हैं और आपकी हर बात और समस्या को सुनेंगे किसी के तथ्य विहीन आरोप प्रत्यारोप पर आप ध्यान कदापि ना दें बलिया के युवाओं के रोजगार परक उद्योग धंधों किसानों के लिए नई तकनीक और शुगम यातायात पर सांसद  का विशेष ध्यान है

उनकी प्राथमिकता में बलिया के बाजार गांव की सड़कों के निर्माण जल्द से जल्द हो ताकि आत्मनिर्भर समाज की कल्पना जो उनके द्वारा की है वह पूर्ण हो सके. इसके साथ ही एक सलाह विधायक को विनय सिंह ने दिया कि राजनीति करने से पहले तथ्यों की पुष्टि करें और जनता के भले की बात करने वाले सलाहकार अपने नजदीक रखें ताकि आरोप तथ्य विहीन आरोप बनकर ना रह जाए. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here