आबादी की जमीन को कब्जा करने का किया प्रयास

जेसीबी-मशीन-से-निर्माणाधीन-पिलर-को-गिराया-आबादी-की-जमीन-को-कब्जा-करने-का-किया-प्रयास !

जेसीबी मशीन से निर्माणाधीन पिलर को गिराया

स्वतंत्र प्रभात

भीटी अम्बेडकरनगर। स्थानीय थाना क्षेत्र महरुआ के अंतर्गत सिलावट गांव का मामला है जहाँ पर जेसीबी मशीन से आबादी की जमीन पर लगे पिलर को तोड़कर कब्जा करने का प्रयास किया गया है ,  शिव चरण सिंह ने आरोप लगाते हुए महरुआ थानाध्यक्ष को तहरीर देते हुए न्याय की गुहार लगाई है।  पीड़ित पक्ष के अनुसार आज सुबह लगभग 5:00 बजे वह अपनी आबादी की भूमि जो कि पुश्तैनी है जिस पर तरह-तरह के पेड़ पौधे लगे हुए हैं और उसी जमीन पर कुछ निर्माण कार्य चल रहा था जिसको देखने के लिए पीड़ित गया तो उसने देखा कि रूद्र प्रताप सिंह, विजेंद्र सिंह, इंद्रसेन सिंह पुत्रगण देवतादीन सिंह आशुतोष प्रताप उर्फ शुभम आदित्य प्रताप उर्फ शिवम पुत्र स्वर्गीय सतनारायण, देवता दीन पुत्र स्वर्गीय राम प्रसाद व लगभग 15 अज्ञात व्यक्ति जो कि अपना चेहरा ढके हुए थे हाथ में लाठी डंडा असलहा व बंदूक लेकर खड़े होकर अपनी दोनों जेसीबी मशीन से  घेरे के पूर्वी तरफ निर्मित पिलर व कटीले तार के घेरे को गिरा रहे थे

पीड़ित के मना करने पर उक्त सभी लोगों ने जान से मारने की धमकी देते हुए पीड़ित को मारने के लिए दौड़ा लिए व इंद्रसेन ने जेसीबी ड्राइवर से कहा कि साले को जेसीबी से दबा दो।जिससे पीड़ित किसी तरह अपनी जान बचाकर अपने घर भागा और डायल 112 पर तथा थाने को भी फोन पर सूचना दिया। बाद में पीड़ित थाने पहुंचकर तहरीर देते हुए न्याय की गुहार लगाई है।वहीं जब हमारे संवाददाता ने दूसरे पक्ष से इस मामले की जानकारी ली तो दूसरे पक्ष द्वारा बताया गया कि वो जमीन हमारी है और आज हम उसको समतल और साफ सफाई कर रहे थे जिस पर आपत्ति जताते हुए शिवचरन सिंह द्वारा विरोध किया गया ।तथा आरोप लगाये कि  गलत तरीके से हमारी जमीन को आपनी जमीन बता रहे है।


वहीं सूत्रों द्वारा जानकारी मिली है कि जमीन पर पहले पिलर के साथ कटीले तार लगे थे जिसकी फोटो भी वायरल हुई है जिसको दूसरे पक्ष द्वारा जबरन अपनी जेसीबी मशीन से गिराया गया है।चुंकि दोनो पक्ष की जमीन आस पास ही है इसलिए किसकी कितनी जमीन है ये विवाद का मुद्धा बना रहता है। आस-पास के लोगों ने बताया कि आबादी की जमीन है जिस पर जिसका कब्जा रहता है उसी की मानी जाती है क्योंकि इसका कोई कागज किसी के पास हो ये मुश्किल होता है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार मौके पर उस जमीन पर शिवचरन सिंह का ही कब्जा था। खैर सच्चाई क्या है ये जाँच का विषय है।वही महरुआ थानाध्यक्ष शंभू नाथ से जब इस मामले में जानकारी ली गयी तो उन्होने  बताया कि तहरीर मिली है जांच की जा रही है जाँच करने के बाद  उचित कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here