सांस्कृतिक एवं समाजिक संस्था के तत्वाधान में आयोजित ई कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह

सांस्कृतिक-एवं-समाजिक-संस्था-के-तत्वाधान-में-आयोजित-ई-कवि-सम्मेलन-एवं-सम्मान-समारोह

मार्तंड साहित्यिक, सांस्कृतिक एवं समाजिक संस्था लखनऊ ,भारत ,पंजीकृत लखनऊ के तत्वाधान में आयोजित ई कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह श्रीकांत त्रिवेदी लखनऊ की अध्यक्षता में संपन्न हुआ।

मार्तंड साहित्यिक, सांस्कृतिक एवं सामाजिक संस्था लखनऊ के तत्वाधान में दिनांक 05/07/20 को आयोजित ई कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह श्रीकांत त्रिवेदी लखनऊ की अध्यक्षता और सुरेश कुमार राजवंशी (महामंत्री) के संयोजन एवं संचालन में संपन्न हुआ।
कवि सम्मेलन का शुभारंभ सुरेश कुमार राजवंशी की वाणी वंदना से प्रारंभ हुआ। इसके उपरांत वरिष्ठ साहित्यकार लेखक डॉ राकेश दुलारा मुजफ्फरनगर ने काव्य पाठ कर भाव विभोर कर दिया।


इसी क्रम में वरिष्ठ साहित्यकार /लेखक/कवि डा0 नरेश सागर ने श्रोताओं और कवियों दोनों को हंसा हंसा कर लोटपोट कर दिया। इसके उपरांत वरिष्ठ कवित्री डॉ0 कुसुम चौधरी ने श्रोताओं और कवियों दोनों को ही भावविभोर कर दिया। इसी क्रम में प्रेमनाथ सरोज मुंबई ने अपनी उत्तम प्रस्तुति दी इसके उपरांत रेनू वर्मा ” रेणू” हरदोई ने श्रोताओं को भावविभोर कर दिया। इसी क्रम में पंडित बे अदब लखनवी लखनऊ ने श्रोताओं को तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया। इसके उपरांत पं. विजयलक्ष्मी मिश्रा लखनऊ ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया इसी क्रम में रामराज भारती फतेहपुरी फतेहपुर ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं तथा कवियों दोनों को ही भाव विभोर कर दिया। इसी क्रम में राखी सरोज जी दिल्ली ने श्रोताओं और कवियों से वाह वाही लूटी।


इसके उपरांत अमित सिंह चौहान पीलीभीत ने श्रोताओं को हंसा हंसा कर लोटपोट कर दिया। इसी क्रम में परवीन निशा दिल्ली ने श्रोताओं और कवियों दोनों से ही वाह वाही खूब बटोरी इसके उपरांत सुरेश कुमार राजवंशी जी लखनऊ ने अपने दोनों और मुक्तकों से श्रोताओं और कवियों दोनों से ही खूब तालियां बजवाई। मैं महानदी औ सिंधु नदी हूं मैं ब्रह्मपुत्र का पानी हूं। इसी क्रम में संस्था के अध्यक्ष सरस्वती प्रसाद रावत लखनऊ ने अपने काव्य पाठ से सभी को भाव विभोर कर दिया।

इसके उपरांत अध्यक्षीय काव्य पाठ श्रीकांत त्रिवेदी ने करके सभी को भाव विभोर कर दिया। कवि सम्मेलन के अंत में मार्तंड साहित्यिक, सांस्कृतिक एवं समाजिक संस्था लखनऊ, भारत, पंजीकृत लखनऊ के अध्यक्ष सरस्वती प्रसाद रावत ने सभी का आभार व्यक्त किया और समापन की घोषणा की।