दुनियाभर में पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा और प्रदुषण को कम करने वाली कोशिशों को समर्थन

दुनियाभर में पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा  और प्रदुषण को कम करने वाली कोशिशों को  समर्थन देने के लिए हर साल 22 अप्रैल को ‘पृथ्वी दिवस’ (Earth Day) मनाया जाता है  राष्ट्रीय स्तर पर मनाए जाने वाले हर कार्यक्रम की तरह  हर वर्ष Earth day की एक अलग थीम होती है जिसके द्वारा उस वर्ष उस विशेष मुद्दे पर लोगों का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया जाता है पृथ्वी दिवस 2020 के लिए थीम जलवायु कार्रवाई है। जलवायु परिवर्तन मानवता के भविष्य और जीवन-समर्थन प्रणालियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती है, माना जा रहा है वर्तमान समय की 90 प्रतिशत समस्यायों के पीछे जलवायु परिवर्तन और वैश्विक तापमान में वृद्धि है ।

  विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अप्रैल 2020  की रिपोर्ट मैं एशिया ,अफ्रीका और लेटिन अमेरिका के देशों को आगाह किया है कि इन देशों के ऐसे लोग  या मरीज  जो लम्बे समय से वायु प्रदुषण से जूझ रहे हैं उन्हें  कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा कई गुना  ज्यदा है,मौत होने की आशंका भी ज्यादा बढ़ सकती है , ए क्यू एयर   ने बीते साल 2019 मैं दुनिया की एयर क्वालिटी रिपोर्ट जारी  की थी  रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के तीस सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों मैं से राजधानी दिल्ली समेत  22 शहर भारत के हैं ऐसे मैं भारत देश पर  अपनी धरती और पर्यावरण को बचाने की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ जाती है पूर्व मैं भी हम प्रथ्वी दिवस की थीम के अनुसार प्रयास करते रहे लेकिन वो नाकाफी सिद्ध हुई  पूर्व के प्रथ्वी दिवस की थीम निम्न प्रकार थीं –  
2010 जलवायु परिवर्तन पर एक वैश्विक जनमत संग्रह ,2011 हवा को साफ करो
, 2012 पृथ्वी को संवारना
,2013 जलवायु परिवर्तन का सामना
,2014 हतित शहर
, 2015 अब नेतृत्व करने की हमारी बारी
,2016 पृथ्वी के लिए पेड़
,2017 पर्यावरण और जलवायु साक्षारता
, 2018 प्लास्टिक प्रदूषण का समापन
, 2019 प्रोटेक्ट अवर स्पेशीज
,2020 क्लाइमेट एक्शन
पृथ्वी पर हर 20 मिनट पर मानव आबादी में 3600 का इजाफा हो रहा है तो वहीं दूसरी ओर जीव जंतुओं की एक प्रजाति लुप्त हो रही है. हालात ऐसे ही बने रहे तो अगले 30 सालों में धरती की 20 फीसदी प्रजातियां हमेशा के लिए खत्म हो जाएंगी. .कैलिफोर्निया में जारी की गई ग्लोबल फुटप्रिंट नेटवर्क की रिपोर्ट के अनुसार 2019  का अर्थ ओवरशूट डे 29 जुलाई को पड़ा था ,अर्थात बीते साल सात महीनों के भीतर इंसान ने प्राकृतिक संसाधनों का साल भर का कोटा फूंक दिया था .  इसका मतलब है कि मानवता ने हमारे ग्रह के प्राकृतिक साधनों का इस्तेमाल 1.75 गुना तेजी से किया है, यह रफ्तार इकोसिस्टम के प्राकृतिक रूप से पुर्नजीवित होने की दर से तेज है.” दूसरे शब्दों में कहें तो इंसान इस साल इतने पेड़ों और जीवों का सफाया कर चुका है, जितने प्राकृतिक रूप से पैदा ही नहीं होते. यह प्राकृतिक संतुलन बिगड़ने का सबूत है. हमारे पास सिर्फ एक ही पृथ्वी है- इंसान का अस्तित्व यही तय करती है.

घातक नतीजों के बिना हम 1.75 गुना पृथ्वी जितने संसाधन इस्तेमाल नहीं कर सकते प्राकृतिक संसाधनों के अथाह दोहन के सबूत घटते जंगलों, बढ़ते भूक्षरण, जैवविविधता के नुकसान और वातावरण में बढ़ती कार्बन डाय ऑक्साइड के रूप में देखे जा रहे हैं.” धरती पर मौजूद इंसान की आबादी जुलाई 2019 तक 7.8 अरब पहुंच चुकी है. इस आबादी को ऊर्जा और ट्रांसपोर्ट मुहैया कराने में सबसे ज्यादा CO2 का उत्सर्जन हो रहा है वैसे तो ऐसे कई तरीके हैं जिससे हम अकेले और सामूहिक रूप से धरती को बचाने में योगदान दे सकते हैं। वैसे तो हमें हर दिन को पृथ्वी दिवस मानकर उसके संरक्षण के लिए कुछ न कुछ करते रहना चाहिए। लेकिन, अपनी व्यस्तता में व्यस्त इंसान यदि विश्व पृथ्वी दिवस के दिन ही थोड़ा बहुत योगदान दे तो जिससे  पर्यावरण प्रदूषण मुक्त हो नदियाँ अस्मिता बहाली के लिये मोहताज न हों ।

धरती रहने के काबिल हो । मिट्टी, बीमारियाँ नहीं वरन सोना उगले ,यदि दुनिया के लोग  अर्थ डे के दिन यह प्रण लें कि हम  कम से कम कार्बन फूट प्रिंट जनरेट करने वाली जीवन शैली अपनाएंगे पृथ्वी के पर्यावरण को बचाने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को नकारेंगे , कागज का इस्तेमाल कम करेंगें रिसाइकल प्रक्रिया को बढ़ावा देंगे  शाकाहारी बनने का प्रयास  करेंगे   तो पृथ्वी दिवस सारी दुनिया के समाज के लिये रस्म अदायगी का नहीं अपितु उपलब्धियों का प्रमाणपत्र प्रस्तुत करने वाला तथा आने वाली पीढ़ियों के लिये सुजलाम सुफलाम शस्य श्यामलाम धरती सौंपने का दस्तावेज़ होगा और हम  धरती के कर्ज को उतरने मैं कुछ हद तक सफल हो पाएंगे ।

ऐसा करेंगे तो पर्यावरण करेगा आपका शुक्रिया

दुनिया खतरे में है। तरक्की की दौड़ में हमने प्रकृति के साथ ऐसा खिलवाड़ किया पृथ्वी के वातावरण में जहरीली गैसों का जमाव बेहिसाब बढ़ा है। इससे जलवायु असन्तुलित हो गई है और धरती का तापमान बढ़ने लगा है।इससे मौसम का मिजाज भी बदल रहा है। आने वाले बरसों में सूखे और बाढ़ से तबाही की सम्भावना बढ़ी है। हम धरती को बचाने में अगर थोड़ी-सी भी मदद कर सकें तो, हमारी छोटी-छोटी कोशिशें मिलकर बड़ा फर्क लासकती है। ये कोशिशें निम्न प्रकार से हो सकती हैं : 1. जहाँ भी हो सके ऊर्जा बचाएँ। यह बचत आपके फालतू के खर्च भी कम करेगी।   2. एल ई डी तकनीकी वाले बल्बों का इस्तेमाल करें ये न kevalvkam कार्बन फुट प्रिंट पैदा करते हैं बल्कि ज्यादा सालो तक भी चलते हैं।
3. नन्हें इंडिकेटर और स्टैंडबाय मोड पर अटके गैजेट्स भी कई किलो कार्बन डाइऑक्साइड पैदा करते हैं।इसलिए जब जरूरत हो तभी उपयोग करें
4. वाॅशिंग मशीन तभी चलाएँ जब उचित मात्रा में कपड़े हों।
5. स्टार  लेवल वाले उपकरण 15 प्रतिशत तक बिजली बचाते हैं।
6. गाड़ी के टायरों में हवा सही रखकर 3 प्रतिशत ईंधन बचा सकते हैं।
7. अधिक से अधिक वृक्ष लगाएँ। एक अकेला वृक्ष अपनी जिन्दगी में एक टन कार्बन डाइऑक्साइडसोखता है।
8. स्थानीय रूप से उपलब्ध खाद्य पदार्थों के इस्तेमाल से ऊर्जा की खपत आधी की जा सकती है।
9  डिब्बाबन्द चीजों से बचें। आपकी किफायत दुनिया को बचा सकती है।
10. अगर हो सके तो प्राकृतिक (अक्षय) ऊर्जा प्रयोग में लाएँ।
11. छोटी मोटी दूरी के लिए गाड़ी निकालने की बजाए पैदल या साइकिल का उपयोग करें लंबी दूरी हेतु संभव हो तो रेल से यात्रा करें ,क्योंकि  वायुयान से यात्रा में सबसे ज्यादा कार्बन फुटप्रिंट जेनरेट होते हैं
12- केवल जरूरत की चीजें खरीदें क्योंकि प्रत्येक चीजों को बनाने प्रसंस्कृत करने के पीछे वर्चुअल वॉटर के रूप में पानी का उपयोग चिपा रहता है । ऐसी पर्यावरण सम्मत तरीके से बनाई गए सामानों का  और जहां तक हो सके सैकेंड हैंड चीजों को ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें . जब आप कुल मिलाकर कम चीजों का उपभोग करेंगे तो उससे पृथ्वी के संसाधन बचेंगे और वह अमीर होगी.
13- हर साल उगाया जाने वाला करीब एक तिहाई खाना बर्बाद हो जाता है. कम से कम अपने स्तर पर तो आप खाने की और बर्बादी को रोक ही सकते हैं. कुछ बच जाए तो अगली बार खा लें, बाकी बचे जैविक कचरे को डालकर कम्पोस्ट बना लें. इसे अपने लिए सब्जियां और फल उगाने में इस्तेमाल करेंगे तो खाने में रसायनों से भी बचेंगे , कई शोध दिखाते हैं कि खाने की बर्बादी जलवायु परिवर्तन का भी  एक कारण है. इससे जैवविविधता पर असर पड़ता है और जमीन में माइक्रोप्लास्टिक की मात्रा भी बढ़ती है.
14-
बिजली का इस्तेमाल बचत के साथ करें. कमरे से निकलते समय लाइट, पंखा ऑफ करना, काम के बाद कंप्यूटर या कोई और स्क्रीन ऑफ करना – ऐसे छोटे छोटे कदम दूरगामी बचत करते हैं. धीरे धीरे यह आदत बन जाती है और आप अपने पर्यावरण को बचाने के लिए अनजाने में ही योगदान कर रहे होते हैं.

15- जहां कहीं भी संभव हो वहां जलवायु परिवर्तन के कारकों को रोकने के लिए आवाज उठाएंगे. इसके लिए हर किसी को सड़क पर उतरने की जरूरत नहीं है लेकिन आप अपने स्थानीय नेता पर इसका दबाव बना सकते हैं. इस बारे में अपने जानने वालों से बात कर सकते हैं. याद रखिए, बात करने से ही बात बनती है.
16- जो लोग मांसाहारी हैं वे भी अपने खान पान में ज्यादा से ज्यादा पौधों से मिलने वाली चीजों को जगह देकर पर्यावरण को बचाने में मदद कर सकते हैं. मीट कभी कभी खाएं और डेयरी उत्पादों का सीमित उपयोग करें,वैज्ञानिक दृष्टकोण से  शाकाहारी लोगों का कार्बन फुटप्रिंट मांसाहारी लोगों से बहुत कम होता है.
17- प्लास्टिक के कारण होते प्रदूषण और जीव जंतुओं पर उसके दुष्प्रभाव की जितनी बात की जाए कम है. समुद्र प्लास्टिकों से अट गए हैं. अगर आप चीजें ज्यादा से ज्यादा रिसाइकिल करेंगे तो कम प्लास्टिक इस्तेमाल में आएगा. अगर चाहें तो अपसाइकिल के विकल्प को भी आजमा सकते हैं. सोचिए, रचनात्मक बनिए और एक ही चीज का पूरा इस्तेमाल कीजिए.
18 पानी को बर्बाद ना करें , आर ओ के वेस्ट पानी को बाल्टी मैं कलेक्ट करके पेड़ों में या घर की सफाई , कार की सफाई में उपयोग करें  । बरसात के पानी का संग्रह करने के लिए नए  घरों को बनाते समय    रूफ वॉटर कलेक्टर सिस्टम या  रेन हार्वेस्टर लगाएं ।


सुशील द्विवेदी

लेखक विज्ञान संचारक के साथ साथ स्टेट कोऑर्डिनेटर ग्रीन ओलंपियाड ( TERI/ टेरी ) हैं (www.teriin.org/olympiad/)