लाखो की लागत से बनाई गई पानी की टंकी के नलकूप की मोटर जली, पानी की किल्लत।

स्वतंत्र प्रभात

सुढ़ियामऊ (बाराबंकी) –

कस्बे में पेयजल की आपूर्ति के लिए लाखो की लागत से बनाई गई पानी की टंकी के नलकूप की मोटर तीन माह पूर्व जल गई थी। इससे लोगों के घरों में पानी नहीं पहुंच रहा है।ग्राम पेयजल की आपूर्ति ठप होने की वजह से ग्रामीणों को पानी की किल्लत से जूझना पड़ रहा है। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने प्रधान,सचिव व जेई से की थी। इसके वायजूद भी ध्यान नहीं दिया गया है।


यह मामला ब्लाॅक सूरतगंज क्षेत्र के ग्राम पंचायत कस्बा सुढ़ियामऊ का है।यहॉ पर  लगभग आठ हजार से अधिक आबादी है। ग्राम पेयजल योजना के तहत यहां पर दो वर्ष पूर्व लाखों की लागत से पानी की टंकी बनाई गई थी। गांव के लोगों को पानी की किल्लत से जूझना न पड़े इसके लिए घर-घर पानी पहुंचाने के लिए पाइप लाइन बिछाई गई है।

कस्बे के अजमेरी ,मेराज,नसीआलम,गुल्ले नेता,सईद,समशुद्दीन मास्टर,कलीम,तसव्वर,रईस आलम,अब्दुल, कलाम,सूफी,सरताज आदि ग्रामीणों का कहना है कि पानी टंकी परिसर में लगाए गए नलकूप की मोटर तीन माह पूर्व जल गई थी।जिससे विभागीय उदासीनता के चलते तीन माह से जली पड़ी मोटर को आज तक ठीक नही कराया गया है। इससे टंकी शोपीस बनी हुई है। पानी सप्लाई न होने से सैकड़ों परिवार पानी की एक-एक बूंद को तरस रहे हैं। मजबूर लोगों ने हैंडपंप व निजी नलकूप से पानी ला रहे हैं।

सुबह से हैंडपंपों में भीड़ लग जाती है। पानी भरने को लेकर आए दिन लोगों में नोकझोंक भी होती रहती है।यही नही कस्बे में लगे दर्जनों इण्डिया मार्का हैण्ड पंम्प कई वर्षो से खराब पड़े है। शिकायत के बाद भी समस्या का निराकरण नहीं किया गया है।तीन माह पहले से फूंकी पड़ी मोटर ठीक न होने से पानी की सप्लाई नहीं मिल पा रही है।ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि अगर शीघ्र ही टंकी से पेयजल सप्लाई शुरू नहीं हुई तो तहसील मुख्यालय का घेराव करने को बाघ्य होगें। इस संबंध में जेई ग्रामीण अभियंत्रण विभाग सचिन यादव ने बताया की मोटर जलने की जानकारी हमें नहीं है अगर ऐसा है तो शीघ्र मोटर को दुरुस्त कराकर पानी सप्लाई चालू करवाई जाएगी।

गर्मी में पेयजल संकट से निपटने को पालिका तैयारhttps://www.livehindustan.com/uttar-pradesh/fatehpur/story-municipality-ready-to-deal-with-drinking-water-crisis-in-summer-3084094.html