दीन-दुखियों की सेवा ही महापुरुषों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि-डीएम, राजेंद्र प्रसाद ।

कलेक्ट्रेट पर फहराया तिरंगा, संगीत का हुआ आयोजन । ए •के• फारूखी ( रिपोर्टर) ज्ञानपुर, भदोही । भारत के पूर्व प्रधानमंत्री रहे स्व0 लालबहादुर शास्त्री व राष्ट्रपिता महात्मा गाॅधी(बापूजी) की जयन्ती शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में सादगी से समारोहपूर्वक मनाई गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्रगान के बाद देश

कलेक्ट्रेट पर फहराया तिरंगा, संगीत का हुआ आयोजन ।

ए •के•  फारूखी ( रिपोर्टर)

ज्ञानपुर, भदोही ।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री रहे स्व0 लालबहादुर शास्त्री व राष्ट्रपिता महात्मा गाॅधी(बापूजी) की जयन्ती शुक्रवार को कलेक्ट्रेट में सादगी से समारोहपूर्वक मनाई गयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने  राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्रगान के बाद देश की एकता और अखण्डता का उपस्थित कर्मचारियों को शपथ दिलाया।

उन्होने गाॅधी जी तथा लाल बहादुर शास्त्री जी के चित्र पर माल्यार्पण किया।अपने सम्बोधन में जिलिधिकारी राजेन्द्र प्रसाद ने कहा  कि सभी अधिकारी और कर्मचारी कुछ समय निकालकर सामाजिक कार्य, दीन दुखियों की सेवा करें। यही इन महापुरूषो के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होने कहा कि मानव जीवन की सार्थकता दूसरों के लिए काम करने में है।

सभी धर्म यही शिक्षा देते है, इन दोनों महापुरूषो ने आजादी की लड़ाई लड़ते हुए सामाजिक कार्यो में रूचि लिया और अन्त्योदय, गरीबों का उत्थान, स्वच्छता, सामाजिक कुरितियों के खिलाफ भी लड़ते रहे। जिलाधिकारी ने कहा कि अब समय का आ गया है कि हम जाति, धर्म, वर्ग से उपर उठकर समाज और देश के लिए कार्य करें।

उन्होने कहा कि गाॅधी जी के एक आवाह्रन पर पूरा देश उठ खड़ा होता था। नमक सत्याग्रह की चर्चा करते हुए उन्होने कहा कि यह केवल अंग्रेजी कानून का विरोध नही था बल्कि इसके द्वारा उन्होने पूरी मानव जाति के लिए आवश्यक एक जरूरी वस्तु के माध्यम से लोगों को जोड़ने का काम किया ।डीएम ने कहा कि दोनों महापुरूषोे ने साध्य एवं साधन की पवित्रता एवं सुचिता पर बल दिया।

यही कारण था कि लोगों को यह विश्वास था कि दोनों महापुरूष देश और समाज के भलाई के लिए कार्य कर रहे है। इसी विश्वास के बल पर गाॅधी जी के नेवृत्व में हम सभी को आजादी मिली।कहा कि  स्वच्छता अभियान कोरोना से बचाव का सही माध्यम है। दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी अपना कर जब तक इसकी कोई दवा या बैक्सीन नही आ जाती है, हम अपने जीवन को बचा सकते है।

उन्होने कहा कि हम सबको जय जवान जय किसान के नारें को पुनः बुलन्द करने की आवश्यकता है। हमें अपने कर्तव्यों का अच्छे से निर्वहन करके एक बेहतर समाज की स्थापना के लिए महत्वपूर्ण योगदान करना चाहिए।ध्वजारोहण के बाद कलेक्ट्रेट परिसर में विचार गोष्ठी का आयोजन कर कार्यक्रम का समापन किया गया।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel