निवेशको व अभिकर्ताओ ने सहारा इण्डिया शाखा में डाला ताला

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो बांगरमऊ-उन्नाव। निवेशकों और एजेंटों ने आज नगर के स्टेशन मार्ग स्थित सहारा इंडिया शाखा में ताला जड़ दिया और जमकर प्रदर्शन किया। बाद में सभी ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में निवेशकों और एजेंटों ने शाखा से जल्द जमा धन वापस कराए जाने की मांग उठाई।सहारा इंडिया के एजेंटों और निवेशकों

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो बांगरमऊ-उन्नाव। निवेशकों और एजेंटों ने आज नगर के स्टेशन मार्ग स्थित सहारा इंडिया शाखा में ताला जड़ दिया और जमकर प्रदर्शन किया। बाद में सभी ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में निवेशकों और एजेंटों ने शाखा से जल्द जमा धन वापस कराए जाने की मांग उठाई।
सहारा इंडिया के एजेंटों और निवेशकों ने आज मिलकर नगर के स्टेशन रोड स्थित शाखा का घेराव किया और कार्यालय में ताला डाल दिया। प्रदर्शनकारी रामशंकर, सुनील कुमार, बृजकिशोर गुप्ता, दिनेश कुमार, राधेलाल,

चांद आलम व अब्दुल कादिर आदि के अनुसार सभी शिक्षित युवक बीते कई वर्षों से सहारा इंडिया में कमीशन एजेंट के रूप में काम करते चले आ रहे हैं। इस दौरान उन्होंने विभिन्न स्कीमों में नगर एवं क्षेत्र के निवेशकों का भारी धन जमा कराया लेकिन वर्ष 2012 से सहारा इंडिया अपना विवाद सेबी से बताकर जमाकर्ताओं का धन वापस नहीं कर रहा है। जबकि ग्राहक अपने धन की वापसी का दबाव बना रहे हैं। यहां तक कि ग्राहक गाली गलौज और जान से मार डालने की धमकी भी दे रहे हैं। ऐसी स्थिति में सभी एजेंट जहां आर्थिक और मानसिक रूप से परेशान है।

वही सुरक्षा की दृष्टि से भी सभी एजेंट खतरे के बीच जीने को मजबूर है। उधर प्रदर्शन में शामिल बबली, ममता, शाहीन, फातिमा, शबाना, राजेश व पुनीत कुमार आदि निवेशकों ने बताया कि उनकी सावधि जमा पूंजी आरसा पूर्व मैच्योर हो चुकी है लेकिन उन्हें प्रमाणपत्र का धन वापस नहीं किया जा रहा है। इनमें कई ग्राहकों ने बताया कि एफडी मैच्योर होने के बाद वे जब पैसा वापस लेने शाखा गए तो प्रबंधक ने ऑनलाइन करने का झांसा देकर तीन अथवा 5 वर्ष की एफडी का नया प्रमाणपत्र जारी कर दिया। प्रदर्शन के बाद निवेशकों और एजेंटों ने ज्ञापन एसडीएम अक्षत वर्मा को सौंपा।

ज्ञापन में सहारा इंडिया से ग्राहकों का धन जल्द वापस कराए जाने की मांग के अलावा एजेंटों की सुरक्षा की मांग उठाई गई है। एसडीएम श्री वर्मा ने कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक को मामले की जांच कर सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel