अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस

Pooja Tiwari – Seattle, Washington (USA)
स्वतंत्र प्रभात (वाशिंगटन)

सबसे पहले मै अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस  पर विश्व भर के श्रमिकों को बधाई देना चाहती हूँ। इस दिवस को मई दिन भी कहतें हैं। इसकी शुरुवात 1 मई 1886 से मानी जाती है | इसकी शुरुवात शिकागो  शहर में स्थित हेमाक्रेट की घटना से हुई थी। जब अमेरिका के  मजदूर यूनियनों का कहना था कि कोई भी मजदूर 1 दिन में 8 घंटे से ज्यादा काम नहीं करेंगे |

इसको लेकर मजदूर संघ हड़ताल पर आ गए थे। इसी हड़ताल के दौरान किसी अज्ञात व्यक्ति ने बम धमाका कर दिया जिसमे काफी पुलिस और मजदूर मारे गये ,लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं हो पायी की बम किसने फोड़ा। अमेरिका में श्रमिक दिवस सितम्बर के पहले सोमवार को मनाया जाता है। सोमवार को मनाने का  मुख्य उद्देश्य लॉन्ग वीकेंड, इसको लेबर डे वीकेंड के नाम से भी जाना जाता है | अमेरिका में 1894 में श्रमिक दिवस को फेडरल हॉलिडे घोषित कर दिया गया |

उदेश्य :-

किसी भी समाज, देश उद्योग को ऊंचाई तक पहुंचाने में मजदूरों और श्रमिकों के परिश्रम की बड़ी ही अहम् भूमिका होती है। श्रमिकों के बिना कोई भी औद्योगिक ढांचा खड़ा नहीं रह सकता है। किसी भी देश को  विकास के तरफ अग्रसर करने में जितनी अहम् भूमिका हमारे उद्योगपतिओं, और सरकार की होती है, उतनी ही  हमारे श्रमिकों की। श्रमिक समाज के विकास के लिए 1 अहम् घड़ें होते हैं। पूर्व में मजदूरों के कार्य करने की स्थिति बहुत ही कष्टदायक थी और असुरक्षित परिस्थितों में भी 10 से 16 घंटे का  कार्य-दिवस था। इसकी वजह से मजदूर संघ काफी छुब्ध हो चुके थे। और फिर 8 घंटे के कार्य को लेकर हड़ताल शुरूकर दिए। मजदूरों को 1 विशेष सम्मान देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस मनाया जाता है।

भारत में अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस:-

अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस को दुनिया के लगभग 80 देशों में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में भी घोषित किया गया है।  भारत में अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस 1 मई 1923 में सब से पहले चेन्नई में शुरू किया गया था। उस समय इसको मद्रास दिवस के तौर पर प्रमाणित किया गया था। इसकी शुरुवात भारती मजदूर किसान पार्टी के नेता कामरेड सिंगरावेलू चेट्टियार ने शुरू की थी। आज भारत में अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस का 98वीं वर्षगाँठ है। महात्मा गांधी ने कहा था कि किसी देश की तरक्की उस देश के कामगारों और किसानों पर निर्भर करती है। श्रमिकों के लिए हिंदी के कवि  दुष्यंत कुमार ने शायरी की है “ये सारा जिस्म झुक कर बोझ से दोहरा हुआ होगा, मै सज्दे में नहीं था आपको धोखा हुआ होगा”।

कैसे मनाया जाता है मजदूर दिवस :-

मजदूर दिवस पर छूटियाँ होती है। मजदूर वर्ग इस दिन पर बड़ी-बड़ी रैलियों का आयोजन करते हैं।अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक संगठन द्वारा इस दिन पर सम्मलेन का आयोजन किया जाता है। देश के मजदूर वर्ग की उन्नति और प्रगति के लिए कई बार इस दिवस पर सरकार द्वारा मजदूर वर्ग को विशेष सहायता और भेंट भी अर्पण की जाती है। मजदूर दिवस पर टीवी, अखबार और रेडिओ जैसे प्रसार माध्यम द्वारा मजदूर जागृति प्रोग्राम प्रसारित किये जाते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक संगठन के सदस्यों के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस का थीम बनाया जाता है। हर वर्ष अलग- अलग थीम तैयार किया जाता है।

श्रमिक हमारे समाज का विशेष अंग हैं। इसलिए उनके बेहतर काम के लिए उनको बेहतर वेतन दिया जाना चाहिए। इसलिए हेनरी जार्ज ने लिखा है “निम्नस्तर का वेतन अकुशल श्रमिक का उत्पादक है, जो दुनिया को ख़त्म कर सकता है” |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here