बस्ती जिले में योगीराज में शिक्षा विभाग में फर्जी शिक्षिका के खिलाफ कार्यवाही करने से डर रही है

बस्ती शिक्षा विभाग में भष्टा्रचार चरम पर जांच के बाद फर्जी शिक्षिका पर कार्यवाही क्यों नही । दूसरा मामला एमीएस स्कूल पैकोलिया विद्यालय दूसरे के जमीन पर मान्यता जांच के बाद कार्यवाही क्यों नही इसी तरह से दर्जनो मामले शिक्षा विभाग में फर्जी पड़े हुये है। बस्ती जिले में फर्जी शिक्षिको का बोलबाला दूसरे के प्रमाण पर कर रही नौकरी शिक्षा विभाग सो रहा कुभ्भकर्णी नींद बस्तीः बस्ती जिले में योगीराज में शिक्षा विभाग में सनसनी खेज मामला सामने आया उसके बावजूद भी विभाग के उच्च अधिकारी फर्जी शिक्षिका मालती देवी के खिलाफ कार्यवाही नही कर रही है ।

पूरा मामला हर्रैया तहसील क्षे़त्र के बडहर कलां प्राथमिक विद्यालय में लगभग 25 वर्षो से फर्जी तरिके से मृतक महिला मालती के प्रमाण पत्र कांती मालती बन कर विद्यालय पर अध्यापिका बन कर नौकरी कर रही है । जबकी यह मामला यह है ,की मालती देवी रिश्ते में राम चंदर के बुआ की बहु है। मालती देवी के पती का नाम राधे श्याम निवासी अदमादपुर नेवाजपुर थाना नबावगंज जनपद गोण्डा की निवासनी है। प्रसव के दौरान मृत्यू होने पर इनका फैजाबाद सरकारी कालेज का बी टी सी प्रमाण पत्र राधे श्याम लाकर अपनी पत्नी कांती देवी का फर्जी आइडी बनाकर और नाम बदलकर मालती के नाम शिक्षा विभाग में नौकरी दिला दी 25 वर्षो से उसी प्रमाण पत्र पर नौकरी कर रही है। जिसका निवास स्थान कई वर्षो से शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों के संज्ञान में रहने के बावजूद भी फर्जी शिक्षिका के खिलाफ कार्यवाही करने में इतने साल लगा दिये। शिकायत कर्ता द्वारा अपने शपथ पत्र में ,मालती देवी के प्रमाण पत्र पर कांती को मालती बना कर लगभग 25 वर्षो से शिक्षा विभाग को चुना लगा रहे है।


जानकारी के अनुसार इस मामले पर शिकायत कर्ता द्वारा कई वर्षो से मंत्री मुख्य मंत्री जिले के आला अधिकारी को मामले को पत्र द्वारा अवगत कराये लेकिन मामले की कोइ्र कार्यवाही नही की गई जबकि शिक्षिका कांती देवी मालती बनकर आज भी विद्यालय में बतौर शिक्षिका के रूप में कार्य कर रही है । शिकायत कर्ता के शपथ पत्र पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अरूण कुमार से बात किया गया तो उन्होने बताया यह मामला संज्ञान में है इस मामले पर 5 सदस्यीय जांच टीम गठीत की गई हैं, जांच रिपोर्ट आने के बाद फर्जी शिक्षिका के खिलाफ मुकद्मा दर्ज कराकर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी । जब इस मामले पर जांच अधिकारी खण्ड शिक्षा अधिकारी सुभाष वर्मा से बात की गई तो उन्होने बताया कांती पत्नी राम चंदर निवासी बडहर खुर्द मालती पुत्री परमात्मा प्रसाद ने अपनी पुत्री की शादी गोण्डा जनपद के अदमादपुर नेवाजपुर में से हुई थी लेकिन उनकी मृत्यू के बाद स्ः मालती देवी के कागजात को लेकर रामचंदर अपनी पत्नी कांती को मालती बनाकर लगभग 25 वर्षो से शिक्षा विभाग में प्राथमिक विद्यालय में बडहर खुर्द में बतौर प्रधानाध्यापिका बनकर कार्य कर रही है

जबकि यह मामला उच्च अधिकारीयों के संज्ञान में रहने के बावजूद भी कार्यवाही नही कर रहे है। तहसील क्षेत्र के हरिजन पुर गा्रम निवासी परमात्मा प्रसाद तिवारी के पुत्री के साथ हुआ था ,जो प्रसव के दौरान मृत्यू हो गई थी। स्वः मालती देवी बी.टी.सी प्रशिक्षण प्राप्त किया था लेकिन विभाग में नियुक्ति नही थी। उसी प्रमाण पत्र पर काती देवी पत्नी राम चंदर पत्नी को शिक्षिका बना दिया जब इस मामले की जांच हुई तब राम चंदर कार्यायल से सम्पर्क करके जांच को दबा दिया जाता था । इसी तरह कांती देवी मालती बनकर लगभग 25 वर्षो से फर्जी शिक्षिका के रूप में सरकार और शिक्षा विभाग को चूना लगा रही है । वर्तमान खण्ड़ शिक्षा अधिकारी सुभाष वर्मा ने निष्पक्ष जांच करते हुए बताया कि जो मालती बन कर बतौर शिक्षिका के रूप मे कार्य कर रही है उनका असली नाम कांती देवी पुत्री नारेन्द्र प्रसाद उपाध्याय निवासी बेरागल तहसील हर्रैया इनका मायका है ।

जबकि मालती देवी की शादी गोण्डा जनपद में हुई थी, इनका मायका गा्रम हरिजनपुर थाना व तहसील हर्रैया है । प्रमाण पत्र में स्वः मालती देवी की जगह लेकर शिक्षिका बन कर कार्य कर रही है जो की जांच में गलत पाया गया । खण्ड शिक्षा अधिकारी सुभाष वर्मा ने बताया कि जांच करके जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को रिपोर्ट भेज दी गई है। दूरभाष पर जब बेसिक शिक्षा अधिकारी से बात की गई तो उन्होने बताया जिले में महोत्सव का कार्यक्रम चल रहा है दो तीन दिन में मामले के पहलुओ को देखते हुए कार्यवाही की जाएगी।