डकैतों का रामपुर में तांडव, गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा गांव

डकैतों का रामपुर में तांडव, गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा गांव

बदमाशों की गोली से एक ग्रामीण गम्भीर घायल

ग्रामीणों ने भी की फायरिंग तब भागे बदमाश

अपराध नियंत्रण में फेल थानाध्यक्ष राकेश मौर्य को एसपी ने किया लाइन हाज़िर

फतेहपुर , जिले के पुलिस अधीक्षक प्रशान्त वर्मा भले ही जिले को अपराध मुक्त और आम जनता को सुरक्षा का दावा कर रहे हों। किन्तु बुधवार रात जिले में घटित दो बड़ी आपराधिक वारदातों ने अपराध मुक्त जिला व आम जनता की पुलिसिया सुरक्षा के दावों की पोल दी। साथ ही ये भी साबित कर दिया कि जिला पूरी तरह शागिर्दों के साये में है। हर ओर अपराध और अपराधियों का जंगल राज कायम है। वहीं इन दो औंग व हुसेनगंज थाना क्षेत्र के लिए यह आये दिन होने वाली, चोरी, लूटपाट, डकैती ही नहीं वरन बलात्कार व हत्या जैसी संगीन आपराधिक वारदातें भी आम बात हो गई हैं।

   बता दें कि औंग थाने के रामपुर गाँव मे बुधवार रात लूट पाट के इरादे से एक किसान के घर मे घुसे बेखौफ बदमाशों ने लूटपाट का विरोध करने पर किसान के लगभग 18 वर्षीय पुत्र को गोली मारकर गम्भीर रूप से घायल कर दिया।

जानकारी के अनुसार बुधवार रात रामपुर निवासी किसान कमल तिवारी एक कार्यक्रम में घर से बाहर गए थे। घर में उनका एकलौता पुत्र अमन व परिवार के लोग अन्दर सोये हुए थे। तभी लूटपाट के इरादे से मध्यरात्रि लगभग दो बजे छत के सहारे घर मे घुसे लगभग आधा दर्जन असलहों से लैश बदमाश लूटपाट करने लगे। किसान का 18 वर्षीय पुत्र अमन बदमाशों से भिड़ गया। जिससे बदमाशों ने अमन को गोली मारकर गम्भीर रूप से घायल कर दिया। परिजनों की चीखपुकार सुनकर पड़ोस में रह रहे भतीजों संदीप, शुभांग व ग्रामीणों ने असलहे व लाठी डण्डा लेकर बदमाशों को ललकारा तो ग्रामीणों से घिरा देखकर बदमाश एक बैग व लोडेड अवैध असलहा छोड़कर मौके से फरार हो गये। बताते हैं ग्रामीणों और बदमाशो की फायरिंग में एक बदमाश को भी गोली लगी है। उसका खून गांव के ही समीप से निकली रेलवे लाइन के उस पार मिला है। अपने घायल बदमाश साथी को बचाने के लिए अन्य बदमाश उसे लाद कर ले गए होंगे शायद इसीलिए घटनाओं में प्रयोग करने वाले औजारों को वह लेकर नहीं जा पाए। उधर गोली लगने के बावजूद अमन, उसके चचेरे भाइयों संदीप व शुभांग ने हार नहीं मानी, वह बदमाशों से संघर्ष करते हुए उन्हें रेलवे लाइन तक खदेड़ ले गए। हालांकि भाइयो को ग्रामीणों का भी सहयोग मिला तब जाकर बदमाश भागे। बाद में गम्भीर घायल अमन को तत्काल कानपुर रीजेंसी में भर्ती कराया गया है। गांव में बदमाशों के लूटपाट करने पर पूरा गांव जाग गया तब गांव के ही सुनील सिंह ने देखा कि उनके यहां भी सामान बिखरा पड़ा है चोरों ने कमल तिवारी के यहां घटना से पहले सुनील सिंह के यहां चोरी को अंजाम दिया था साथ ही गांव के शिवम के घर मे चोरी का प्रयास किया था। गांव में हुई डकैती की सूचना रात में ही ग्राम प्रधान ने थाने में दी। तब मौके पर पुलिस पहुंची और क्षेत्र में कांबिंग करती रही। वहीं डकैती की सूचना पाते ही एसपी प्रशान्त वर्मा ने सीओ बिंदकी व सीओ जाफरगंज अभिषेक तिवारी व फोरेंसिक यूनिट की संयुक्त टीम के साथ घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण कर घटना के शीघ्र खुलासे के निर्देश थानाध्यक्ष को दिये।


मामले के बावत एसपी प्रशान्त वर्मा ने बताया कि बदमाश भागते समय घटनास्थल पर एक बैग जिसमें रॉड, एक जोड़ी जूता, प्लास, कटर, पेचकस व एक अदद लोडेड तमंचा, शाल व साबर छोड़ गये हैं। जो घटना के खुलासे में अहम सुराग साबित होंगे। घायल बदमाश के खून का भी सैम्पल लिया गया है आस पास के नर्सिंग होम आदि पर भी निगाह रखी जा रही है। किसान कमल तिवारी व सुनील सिंह की दी हुई तहरीर के आधार पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ चोरी की नियत से जानलेवा प्रयास व चोरी का मुकद्दमा पंजीकृत किया गया है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा।

  • चोरियों पर पुलिस गम्भीरता दिखाती तो न होती डकैती

क्षेत्र में डकैती के प्रयास में गोलीकांड होने से लोग घबराए हुए हैं। क्षेत्रीय लोग थाना पुलिस को पानी पी पीकर कोस रहे हैं। बता दें कि लगभग एक वर्ष में अब तक क्षेत्र में चोरियों का सैकड़ा लग चुका है मगर पुलिस ने खुलासे के नाम पर महज खानापूर्ति की है। लोगों का मानना है अगर पुलिस चोरियों को गम्भीरता से लेकर खुलासे करती तो आज डकैती के प्रयास और गोलीकांड की नौबत न आती। हालांकि देर से ही सही लेकिन एसपी प्रशांत वर्मा ने अपराध नियंत्रण में फेल थानाध्यक्ष राकेश मौर्य को लाइन हाजिर कर दिया। उनके स्थान पर पूर्व में स्वाट प्रभारी रहे निरीक्षक नागेंद्र नागर को थाने की कमान सौंपी ग…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here