ओवरलोडिंग धड़ल्ले से जारी, जिम्मेदार बने मौन

ओवरलोडिंग धड़ल्ले से जारी, जिम्मेदार बने मौन

ओवरलोडिंग से सड़कें हो रही खस्ताहाल

सरकार का गड्डामुक्त सड़कें करने का दावा फेल, सड़कें बनी गड्डायुक्त

ओवर लोडिंग को लेकर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार चाहे जितनी सख्ती दिखा रही हो, लेकिन जनपद फ़तेहपुर में मौरम माफिया ओवरलोडिंग कर सड़कों की धज्जियां उखाड़ने में लगे है, और जिले के जिम्मेदार अधिकारी मौन साधे हुए हैं। मौरम माफिया सरकार की मंशा को पलीता लगाने में जुटे हुए है। जिले के हालात यह है कि दिन के उजाले से लेकर रात के अंधेरे तक मे खुलेआम ओवर लोडिंग का खेल जारी है। यहाँ चल रही ओवर लोड गाड़ियों के चलते सरकार का सड़को को गड्ढा मुक्त करने का दावा भी खोखला साबित हो रहा है। ओवर लोड गाड़ियों के चलने से शहर के भीतर से गुजरने वाला बाँदा टांडा मार्ग पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। इस मार्ग पर इतने बड़े बड़े गड्ढे बन गए है कि इस सड़क से चलना लोगों के लिए मुसीबत भरा काम साबित हो रहा है। तमाम दावों के बावजूद जिले में चल रही मोरंग खदानों से ही धड़ल्ले से ओवर लोडिंग की जा रही है। जिले के अलावा बाँदा और हमीरपुर की मोरंग खदानों से ओवर लोड मोरंग लादकर प्रतिदिन सैकड़ो गाड़िया जिले की सड़कों से होकर निकल रही है, लेकिन उसके बावजूद इन ओवर लोड गाड़ियों पर लगाम लगाने वाला कोई नही है कहने को तो एसडीएम एआरटीओ और खनिज अधिकारी की अगुआई में अधिकारियों की एक टीम को ओवर लोडिंग पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी दी गई है, लेकिन उसके बावजूद ओवर लोडिंग पर लगाम नही लग पा रही है। कहा तो यहाँ तक जाता है कि ओवर लोड गाड़ियों को पास कराने के लिए दलालों का एक गैंग प्रतिदिन सैकड़ों ओवर लोड गाड़ियों को जिले की सीमा से बाहर निकलवाता है। जिम्मेदार अधिकारियों की जानकारी में चलने वाले इस खेल में अक्सर अधिकारियों की भी मिली भगत की बात सामने आती रहती है। जिले में ओवर लोडिंग रोकने के लिए ललौली थाना क्षेत्र में कुछ दिन पहले बैरियर भी लगाए गए थे लेकिन बैरियर पर तैनात किए गए कर्मचारियों और ओवर लोड गाड़ियां पार कराने वाले दलालों कि मिली भगत सामने आने के बाद इस बैरियर को हटा लिया गया था।

उसके बाद जिले में ओवर लोडिंग का खेल धड़ल्ले से जारी है। इस मामले में जिलाधिकारी संजीव सिंह का कहना है कि ओवर लोड गाड़ियों की धर पकड़ करने के लिए अधिकारियों की टीम तैनात की गई है जिसकी सक्रियता के चलते ओवर लोडिंग पर पहले की अपेक्षा अब कमी आई है फिर भी अगर ओवर लोडिंग हो रही है तो उस पर रोक लगाई जाएगी जिलाधिकारी ओवर लोड गाड़ियों को रोकने का दावा भले ही कर रहे हो लेकिन जिले के खनन अधिकारी का कहना है कि इसके लिए वो अकेले थोड़े ही जिम्मेदार है। इसके लिए टास्क टीम गठित की गई है उसमें डीएम हैं, एसडीएम हैं, एसपी हैं, उसमे वो भी केवल एक सदस्य हैं। वहीं संबंधित विभाग एआरटीओ पर तो अक्सर उंगली उठती रही है। लेकिन दिनरात जनपद फतेहपुर में कई किलोमीटर चलने के बाद ओवर लोड गाड़िया दूसरे जिले की सीमा में प्रवेश करती है। उसके बावजूद ओवरलोड गाड़ियों पर किसी अधिकारी की नजर क्यों नही पड़ती यह अपने आप मे बड़ा सवाल बन गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here