डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- ये अमेरिका का अपमान है…

स्वतंत्र प्रभात –

जैसा की हम सब जानते है की अमेरिका ने ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को दुनिया का नंबर वन आतंकी बताकर एयरस्ट्राइक में जान से मार गिराया है। वही देखा जाये तो अमेरिका की इस सख्त कार्रवाई के बाद जहां ईरान में गुस्सा है वही देखें तो दोनों देशों के बीच संघर्ष पैदा हो गया है। वहीं अमेरिका में भी डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन के कदम की आलोचना हो रही है। जानकारी के लिए आपको बता दे की डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी इस आलोचना को अमेरिका का अपमान बताया है।

जानकारी के लिए आपको बता दे की 3 जनवरी को अमेरिका ने जनरल कासिम सुलेमानी पर इराक की सरहद में एयरस्ट्राइक की थी, जिसमें ईरान के दूसरे सबसे ताकतवर शख्स कासिम सुलेमानी की मौत हो गई थी। और अमेरिका के इस करवाई के बाद ईरान ने खुलेआम बदला लेने का ऐलान कर दिया था और सुलेमानी को दफनाने से पहले ईरान ने इराक स्थित अमेरिका के सैन्य बेस को निशाना भी बनाया था।

शिकागो में प्रदर्शन

ईरान के सख्त रुख को देखकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी अपनी तरफ से लगातार धमकियां दे रहे थे। जिससे पूरी दुनिया में युद्ध की चिंता पैदा हो गई थी। इसी बीच अमेरिका में विरोधी डेमोक्रेट्स भी डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ आवाज बुलंद करने लगे और कासिम सुलेमानी की मौत पर सवाल उठाने लगे। डेमोक्रेट सांसद और यूएस हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ट्रंप पर अमेरिकी सैनिक और नागरिको की जिंदगी खतरे में डालने का आरोप लगाते हुए ईरान के खिलाफ उनकी शक्ति कम करने तक का प्रस्ताव ले आईं। साथ ही यूएस संसद को कासिम सुलेमानी पर हमले की जानकारी न देने को लेकर ट्रंप को निशाने पर लिया गया।

इन तमाम आलोचनाओं पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर जवाब दिया है। ट्रंप ने कहा है कि हमने कासिम सुलेमानी को मारा है, जो दुनिया का नंबर वन आतंकी था। उस शख्स ने बहुत अमेरिकियों को मारा था, इसलिए हमने उसे मार दिया। ट्रंप ने यह कहते हुए डेमोक्रेट्स को जवाब दिया और कहा, ‘जब डेमोक्रेट्स उसके बचाव की कोशिश करते हैं तो यह देश का अपमाना